गूगल की पैरेंट कंपनी अल्फाबेट करेगी 12,000 कर्मचारियों की छंटनी, कुल वर्कफोर्स का 6 फीसदी

गूगल की इस छंटनी में सभी विभागों में काम करने वाले कर्मचारी प्रभावित होंगे, इसमें कॉर्पोरेट कामकाज के साथ-साथ इंजीनियरिंग व उत्पाद से जुड़ी टीमें भी शामिल हैं।

Updated: Jan 20, 2023, 06:12 PM IST

गूगल की पैरेंट कंपनी अल्फाबेट करेगी 12,000 कर्मचारियों की छंटनी, कुल वर्कफोर्स का 6 फीसदी

गूगल की पैरेंट कंपनी अल्फाबेट पूरी दुनिया में अपने 12,000 कर्मचारियों की छंटनी करने जा रही है। इसके मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स के साथ साझा किए गए एक स्टाफ मेमो में यह बात कही है। यह कटौती टेक्नालॉजी के क्षेत्र में एक और खलबली पैदा करने वाली है। उसके प्रतिद्वंद्वी माइक्रोसॉफ्ट कॉर्प ने पहले ही कहा है कि यह 10,000 कर्मचारियों की छंटनी करेगी।

नौकरियों में कटौती से कंपनी की सारी टीमें प्रभावित होंगी, इनमें रिक्रूटिंग और कॉर्पोरेट कामकाज के साथ-साथ इंजीनियरिंग व उत्पाद से जुड़ी टीमें भी शामिल हैं। गूगल ने कहा है कि, यह छंटनी दुनिया भर में हो रही है और इसका असर फौरन देखने को मिलेगा। गूगल में छंटनी की वजह आर्थिक अनिश्चितता है।

यह भी पढ़ें: पेशाब कांड में DGCA की बड़ी कार्रवाई, एयर इंडिया पर लगाया 30 लाख रुपए का जुर्माना

बड़ी बात ये है कि ये ऐसे समय किया जा रहा है जब कंपनियां टेकनोलॉ़जी के लेवल पर बड़े-बड़े वादे कर रही हैं। जिसमें Google और Microsoft सॉफ्टवेयर के नए क्षेत्र में निवेश कर रहे हैं जिसे जनरेटिव आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के तौर पर जाना जाता है। अल्फाबेट के सीईओ सुंदर पिचाई ने नोट में कहा, मैं अपने मिशन की ताकत, हमारे प्रोडक्ट और सर्विसेज, आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस में हमारे शुरुआती निवेश की बदौलत हमारे सामने बड़े अवसर को लेकर आश्वस्त हूं।

दरअसल हाल के दिनों में दुनियाभर में छाई मंदी के बादल के बाद बड़ी-बड़ी टेक कंपनियां छंटनी का दौर चला रही हैं। कर्मचारियों की नौकरी पर संकट बना हुआ है। खराब होते ग्लोबल आउटलुक को देखते हुए अमेरिका की बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनियां जैसे अमेजन, मेटा ने भी छंटनी की है। अब इस कड़ी में गूगल माइक्रोसॉफ्ट का नाम भी जुड़ गया है।