Corona Impact: निर्यात 10 प्रतिशत घटा, 4.83 अरब डॉलर का व्यापार घाटा

Covid 19 Economy: पेट्रोलियम, टेक्सटाइल, चमड़ा उत्पादों के निर्यात में भारी गिरावट, अप्रैल-जुलाई में आयात में 46.7 प्रतिशत की कमी

Updated: Aug-15, 2020, 06:49 PM IST

Corona Impact: निर्यात 10 प्रतिशत घटा, 4.83 अरब डॉलर का व्यापार घाटा
photo courtesy : patrika

नई दिल्ली। भारत के निर्यात में जुलाई महीने में 10.21 प्रतिशत की गिरावट आई और यह 23.64 अरब डॉलर पर आ गया। यह लगातार पांचवां महीना है, जब देश के निर्यात में गिरावट आई है। जुलाई में निर्यात में गिरावट आने की मुख्य वजह पेट्रोलियम, चमड़ा तथा रत्न और आभूषण आदि के निर्यात का कम रहना है। हालांकि पिछले कुछ महीनों से जारी बड़ी गिरावट को देखते हुए निर्यात में सुधार हुआ है। इससे पहले निर्यात में अप्रैल में 60.28 प्रतिशत, मई में 36.47 प्रतिशत और जून में 12.41 प्रतिशत की गिरावट रही थी।

आंकड़ों के अनुसार, जुलाई महीने में आयात भी 28.4 प्रतिशत गिरकर 28.47 अरब डॉलर पर आ गया। इससे व्यापार घाटा कम होकर 4.83 अरब डॉलर रह गया, जो साल भर पहले के समान महीने में 13.43 अरब डॉलर रहा था। व्यापार घाटा पिछले तीन महीने में सर्वाधिक है। 

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, जुलाई महीने में कच्चा तेल आयात 31.97 प्रतिशत कम होकर 6.53 अरब डॉलर पर आ गया। हालांकि, सोने का आयात इस दौरान 4.17 प्रतिशत बढ़कर 1.8 अरब डॉलर पर पहुंच गया।

जिन प्रमुख वस्तुओं के निर्यात में जुलाई में गिरावट दर्ज की गई, उनमें पेट्रोलियम उत्पाद में 51.54 प्रतिशत, रत्न और आभूषण में 49.61 प्रतिशत, चमड़ा में 26.96 प्रतिशत, मानव निर्मित धागे में 23.33 प्रतिशत, सभी कपड़ों के तैयार परिधान में 22 प्रतिशत और काजू में 21.25 प्रतिशत की गिरावट शामिल हैं।

इस दौरान जिन वस्तुओं के निर्यात में वृद्धि दर्ज की गई, उनमें चावल, लौह अयस्क, तिलहन, तेल खली, मांस, डेयरी और पोल्ट्री उत्पाद, दवाएं, कॉफी, इंजीनियरिंग सामान और प्लास्टिक शामिल हैं। जुलाई में मशीनरी, रसायन और इलेक्ट्रॉनिक सामान के आयात में गिरावट आई।

अप्रैल से जुलाई तक की अवधि के दौरान निर्यात में 30.21 प्रतिशत की गिरावट आई और यह कुल मिला कर 74.96 अरब डॉलर रहा। इस दौरान आयात 46.7 प्रतिशत कम होकर 88.91 अरब डॉलर रहा। इस तरह चालू वित्त वर्ष के पहले चार महीने के दौरान देश का व्यापार घाटा 13.95 अरब डॉलर रहा।

फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट्स ऑर्गनाइजेशन के अध्यक्ष शरद कुमार सराफ ने कहा कि जुलाई के आंकड़ों से निर्यात की गिरावट में निरंतर कमी का पता चलता है।

इक्रा लिमिटेड की प्रधान अर्थशास्त्री अदिति नायर ने कहा कि निर्यात में सुधार की यह प्रवृत्ति आने वाले महीनों में मजबूत होने की संभावना है, क्योंकि तेल और सोने के इतर जिंसों के आयात की मांग सामान्य होने लगी है। आरबीआई के आंकड़ों के अनुसार, भारत के सेवा क्षेत्र का निर्यात 8.39 प्रतिशत घटकर 17 अरब डॉलर रहा।