MP में 34 लाख किसान डिफाल्टर घोषित, कमलनाथ बोले- सरकार आते ही कर्ज के चंगुल से मुक्ति दिलाएंगे

पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा- कुछ महीने बाद प्रदेश में फिर से कांग्रेस पार्टी की सरकार बनेगी और किसान भाइयों का कर्ज माफ कर दिया जाएगा।

Updated: Jan 15, 2023, 05:13 PM IST

MP में 34 लाख किसान डिफाल्टर घोषित, कमलनाथ बोले- सरकार आते ही कर्ज के चंगुल से मुक्ति दिलाएंगे

भोपाल। किसान कर्जमाफी के मुद्दे पर कांग्रेस शिवराज सरकार पर लगातार हमलावर है। चुनाव पूर्व कांग्रेस ने एक बार फिर से सभी किसानों का कर्ज माफ करने का वादा किया है। इसी बीच जानकारी सामने आई है कि राज्य के 34 लाख किसान डिफाल्टर घोषित हो चुके हैं। इन किसानों से पीसीसी चीफ कमलनाथ ने वादा किया कि सरकार आते ही सभी को कर्ज के चंगुल से मुक्ति दिलाएंगे।

कमलनाथ ने एक ट्वीट थ्रेड में लिखा कि, 'मध्य प्रदेश में लगभग 34 लाख किसानों के डिफाल्टर हो जाने के समाचार सामने आ रहे हैं। जब कांग्रेस सत्ता में थी तो हमने 27 लाख किसानों का कर्ज माफ कर दिया था और बाकी किसानों का कर्ज माफ करने की प्रक्रिया शुरू कर दी थी। किसान विरोधी शिवराज सरकार ने किसानों की कर्ज माफी बंद कर दी और किसानों को कर्ज के दलदल में धकेल दिया।'

पूर्व सीएम ने आगे लिखा कि, 'मैं मध्य प्रदेश के किसान भाइयों को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि कुछ महीने बाद प्रदेश में फिर से कांग्रेस पार्टी की सरकार बनेगी और किसान भाइयों का कर्ज माफ कर दिया जाएगा। हम प्रदेश के किसानों के जीवन में खुशहाली लाएंगे और उन्हें कर्ज के चंगुल से मुक्ति दिलाएंगे। हम भाजपा की तरह जुमले नहीं उछालते, जो कहते हैं वह करते हैं।'

क्यों डिफाल्टर हुए किसान

लाखों की संख्या में किसानों के डिफाल्टर होने के पीछे कई कारण है। किसान नेता और कृषि एक्सपर्ट केदार सिरोही के मुताबिक किसानों का इनकम कम हो रहा है और खर्च बढ़ रही है, यही डिफाल्टर होने का मुख्य कारण है। केदार सिरोही बताते हैं कि फसल की लागत मूल्य लगातार बढ़ रही है। कालाबजारी करने वाले लोग किसानों की जेब काट रहे हैं। किसान जब मंडियों में उत्पाद बेचने जाते हैं तो लागत मूल्य भी नहीं निकाल पाते। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार कॉरपोरेट को फायदा दिलाने के लिए और कमीशनखोरी के चक्कर में किसानों को कर्ज के दलदल में धकेल रही है।