स्पेस में हुई आइस्क्रीम पार्टी, एस्ट्रोनॉट ने मनाया अपना 50वां बर्थ डे, नासा ने खास तौर पर भेजी थी आइसक्रीम

कई महीनों से स्पेस में डेरा डाले एस्ट्रोनॉट मेगन मैक्ऑर्थर हुईं इमोशनल बोलीं, इससे पहले कभी इस तरह की नहीं मिली ट्रीट, नासा ने बर्थडे पार्टी के लिए खास तौर पर भेजी है आइसक्रीम

Publish: Aug 31, 2021, 05:58 PM IST

स्पेस में हुई आइस्क्रीम पार्टी, एस्ट्रोनॉट ने मनाया अपना 50वां बर्थ डे, नासा ने खास तौर पर भेजी थी आइसक्रीम
Photo Courtesy: twitter

हर इंसान का जन्मदिन उसके लिए खास होता है। जब बात लाइफ की हाफ सेंचुरी की हो तो बात और ज्यादा खास हो जाती है। जिसे हर आम और खास अपने-अपने तरीके से सेलीब्रेट करता है। अक्सर फैमिली और फ्रेंड्स इसे यादगार बनाने के लिए सरप्राइज प्लान करते हैं। ऐसा ही कुछ हुआ एस्ट्रोनॉट मेगन मैक्ऑर्थर के साथ। वे इनदिनों एक स्पेश मिशन के लिए अंतरिक्ष में हैं। वहां उनके 6 साथी भी गए हैं। वैसे तो सामान्य प्रक्रिया के तहत स्पेस में समय-समय पर अंतरिक्ष यात्रियों की जरूरत और रिसर्च से जुड़ा सामान भेजा जाता है।

इसी कड़ी में नासा ने कुछ खास सामान स्पेस सेंटर पर भिजवाया है। जिसकी डिलिवरी एलन मस्क की कंपनी स्पेस एक्स ने हाल ही में की। नासा ने रॉकेट के माध्यम से वैसे तो एस्ट्रोनॉट्स की जरूरत का बहुत सामान भेजा है। इसमें कुछ खास तरह के अद्भुत रोबोट भी शामिल हैं। नासा ने कैनेडी स्पेस सेंटर से दो दिनों पहले एक कैप्सूल में मैकआर्थर और उनके स्पेस के 6 साथियों के लिए कुकीज, पिज्जा, लेमन, चेरी, टमाटर, एवोकैडो भेजा इसी के साथ बर्थ डे के मौके पर खास तौर पर आइसक्रीम पहुंचाई। और तो औऱ बर्थ डे गर्ल का सैशे भी भेजा गया था। जिसमें लिखा था Fabulous 50, यह सब पाकर मैगन काफी इमोशनल हो गई औऱ लिखा की इससे पहले जन्मदिन पर कभी इतना खास गिफ्ट नहीं मिला। उन्होंने लिखा की केक, कुकीज, पिज्जा, चाकलेट की पार्टी करके काफी खुश हैं औऱ अब आइस्क्रीम खाकर खुशी को दुगना करने वाली हैं।

 इस दौरान वहां अंतरिक्ष यात्रा के दौरान जरूरी कई दूसरा सामान भी भेजा गया है। एलन मस्क की कंपनी एक दशक से इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में सामान भेज रही है। यह 23वीं बार है जब सामान की खेप पहुंचाई है। इस खेप में 4,800 पाउंड याने करीब 2,170 किलो से ज्यादा का सामान भेजा गया है। जिसका उपयोग रिसर्च के लिए किया जाना है। दरअसल इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में वैज्ञानिकों कई महीनें रहते हैं। वहां उनके पास भूख मिटाने के लिए केवल पैक्ड फूड ही सहारा होता है। अब ऐसे में अगर बिना मांगे मुराद मिल जाए तो कहना ही क्या।