भारत में हृदय विदारक से भी परे हैं हालात, WHO चीफ की भारत में कोरोना के कहर पर टिप्पणी

विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस अधोनम ने भारत के हालात पर एक बार फिर व्यक्त की अपनी चिंता, टेड्रेस ने कहा कि भारत को हर ज़रूरी चीज़ की आपूर्ति विश्व स्वास्थ्य संगठन कर रहा है

Updated: Apr 27, 2021, 11:18 AM IST

भारत में हृदय विदारक से भी परे हैं हालात, WHO चीफ की भारत में कोरोना के कहर पर टिप्पणी
Photo Courtesy: News 18.com

नई दिल्ली। भारत में कोरोना से बेकाबू हो चुके हालात पर विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस अधोनम ने अपनी चिंता जाहिर की है। WHO प्रमुख टेड्रोस अधोनम ने कहा है कि भारत में हालात अब ह्रदय-विदारक या शायद उससे भी परे हो चुके हैं। इसके साथ ही WHO प्रमुख ने यह भी कहा है कि भारत के इस स्थिति से निपटने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन हर संभव मदद भी मुहैया करा रहा है। 

टेड्रोस अधोनम के मुताबिक विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पोलियो और टीबी सहित विभिन्न कार्यक्रमों से जुड़े 2600 से अधिक विशेषज्ञों को भारत भेजा है। जो कि भारत को इस महामारी से निपटने के लिए सहायता करने में जुटे हुए हैं। टेड्रोस अधोनम ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन वो हर चीज़ कर रहा है जो कि भारत को इस संकटकाल से निकालने में मददगार साबित हो सकते हैं। 

यह भी पढ़ें : 10 फीसदी संक्रमण दर और 60 फीसदी आईसीयू बेड भरने की स्थिति में इलाके को कंटेनमेंट किया जाए घोषित, राज्यों को जारी हुई कोरोना गाइडलाइंस

टेड्रोस ने एक पत्रकार वार्ता के दौरान संवाददाताओं को बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन भारत को तमाम महत्वपूर्ण उपकरण की आपूर्ति कर रहा है। टेड्रोस ने बताया कि संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी हज़ारों ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर, प्री फेब्रिकेटेड मोबाइल फील्ड हॉस्पिटल की आपूर्ति भारत को सुनिश्चित कर रही है। इससे पहले भी WHO प्रमुख ने जेनेवा में एक पत्रकार वार्ता के दौरान कहा था कि कोरोना का वायरस कितना घातक हो सकता है, इसे भारत के उदाहरण से समझा जा सकता है।

यह भी पढ़ें : हर गुजरते दिन के साथ भारत में हाथ से निकलती जा रही है स्थिति, WHO प्रमुख ने कहा, वायरस कितना खतरनाक हो सकता है, इसे भारत को देखकर समझा जा सकता है

भारत में कोरोना से हालात एकदम बेकाबू हो चुके हैं। देश भर में प्रतिदिन 3 लाख से ज़्यादा मामले सामने आ रहे हैं। लोग इलाज के लिए दर दर की ठोकरें खा रहे हैं। ऑक्सीजन और इंजेक्शन के लिए लोगों को सोशल मीडिया पर गुहार लगाते देखा जा सकता है। श्मशान घटों तथा कब्रिस्तानों में भी अंत्येष्टि के लिए लगी लाइन से भयावह मंजर का अंदाज़ा लगाया जा सकता है।