जीवन साथी या परिवार के सदस्य हर 11 मिनट में कर देते हैं एक महिला की हत्या: यूएन महासचिव

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा, 'मैं सरकारों से 2026 तक महिला अधिकार संगठनों और आंदोलनों के लिए फंड को 50 फीसदी तक बढ़ाने की अपील करता हूं।'

Updated: Nov 22, 2022, 08:19 AM IST

जीवन साथी या परिवार के सदस्य हर 11 मिनट में कर देते हैं एक महिला की हत्या: यूएन महासचिव

न्यूयॉर्क। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने महिलाओं के खिलाफ बढ़ती हिंसक घटनाओं को लेकर चिंता जताई है। एंटोनियो गुटेरेस ने अपने एक संदेश में कहा कि महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा दुनिया में मानवाधिकारों का सबसे बड़ा उल्लंघन है। उन्होंने कहा कि हर 11 मिनट में एक महिला या लड़की को उसके जीवन साथी या परिवार के सदस्यों द्वारा मार दिया जाता है।

गुटेरेस ने सरकारों से 2026 तक महिला अधिकार संगठनों और आंदोलनों के लिए फंड को 50 फीसदी तक बढ़ाने की भी अपील की है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने आगाह किया कि कोविड-19 महामारी से लेकर आर्थिक उथल-पुथल जैसे दूसरे तनाव भी अनिवार्य रूप से महिलाओं के साथ और भी अधिक शारीरिक और मौखिक दुर्व्यवहार का कारण बनते हैं। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही महिलाओं और लड़कियों को घृणा फैलाने वाले भ्रामक बयानों, यौन उत्पीड़न, फोटो के दुरुपयोग जैसे कई तरीकों से बड़े पैमाने पर ऑनलाइन हिंसा का सामना करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें: भारत जोड़ो यात्रा में सपरिवार शिरकत करेंगी प्रियंका गांधी, MP में भाई राहुल के साथ करेंगी कदमताल

एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि आधी मानवता को इस निशाना बनाने वाले भेदभाव, हिंसा और दुर्व्यवहार की भारी कीमत चुकानी पड़ती है। यह जीवन के सभी क्षेत्रों में महिलाओं और लड़कियों की भागीदारी को सीमित करता है, उनके बुनियादी अधिकारों और स्वतंत्रता से वंचित करता है। साथ ही ये महिलाओं के समान आर्थिक सुधार और सतत विकास को रोकता है, जिसकी दुनिया को जरूरत है।

उन्होंने आगे कहा कि, ‘मैं सरकारों से 2026 तक महिला अधिकार संगठनों और आंदोलनों के लिए फंड को 50 फीसदी तक बढ़ाने की अपील करता हूं।' बता दें कि हाल ही में संयुक्त राष्ट्र की ‘सतत विकास लक्ष्यों पर प्रगति: लिंग स्नैपशॉट 2022’ नामक एक रिपोर्ट में कहा गया कि घरों के भीतर हिंसा एक गंभीर मुद्दा बना हुआ है। रिपोर्ट से पता चलता है कि विश्व स्तर पर हर 10 में से 1 से अधिक महिलाएं और 15-49 आयु वर्ग की लड़कियां पिछले वर्ष में एक अंतरंग साथी द्वारा यौन और/या शारीरिक हिंसा का शिकार हुई हैं।