दुनियाभर में बायकॉट के बाद बैकफुट पर आया WhatsApp, रोका प्राइवेसी अपडेट का प्लान

वॉट्सऐप ने शुक्रवार को एलान किया कि प्राइवेसी अपडेट की योजना फिलहाल टाल दी गई है, कंपनी की नई प्राइवेसी पॉलिसी का भारी विरोध हो रहा था

Updated: Jan 16, 2021, 04:06 PM IST

दुनियाभर में बायकॉट के बाद बैकफुट पर आया WhatsApp, रोका प्राइवेसी अपडेट का प्लान
Photo Courtesy : The financial express

वॉशिंगटन। इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप वॉट्सऐप ने अपनी प्राइवेसी पॉलिसी को अपडेट करने की योजना फिलहाल स्थगित कर दी है। अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी के दुनियाभर में हो रहे विरोध और ऐप के बहिष्कार के बाद कंपनी ने यह फैसला लिया है। कंपनी ने पहले एलान किया था कि उसके सभी यूज़र्स को 8 फरवरी तक नई प्राइवेसी पॉलिसी माननी होगी, वरना वे ऐप का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे।

वॉट्सऐप को आखिरकार लोगों के भारी विरोध के आगे झुकते हुए अपना फैसला बदलना पड़ा है। कंपनी की तरफ से जारी ब्लॉग पोस्ट में लिखा गया है, 'हमें जानकारी मिली है कि हमारे लेटेस्ट अपडेट को लेकर काफी भ्रम की स्थिति पैदा हो गई है। यह अपडेट फेसबुक के साथ डेटा साझा करने की हमारी क्षमता का विस्तार नहीं करता है।' वॉट्सऐप ने इससे पहले भी सफाई देते हुए कहा था, 'हम आपके निजी संदेश नहीं देख सकते हैं या आपकी कॉल नहीं सुन सकते हैं और न ही फेसबुक ऐसा कर सकता है।'

यह भी पढ़ें: Whatsapp ने अखबारों में दिया फुल पेज का विज्ञापन, प्राइवेसी के सम्मान को बताया अपना DNA

वॉट्सऐप की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि 'हम आपके मैसेज या कॉल का विवरण नहीं रखते हैं। हम आपके द्वारा शेयर की गई कोई लोकेशन नहीं देख सकते हैं और न ही फेसबुक ऐसा कर सकता है। वॉट्सऐप ने यूजर्स से कहा कि उनके डेटा को फेसबुक के अन्य उत्पादों और सेवाओं से जोड़ा गया है ताकि भविष्य में यूजर्स को बेहतर सेवाएं मिलती रहें। लेटेस्ट अपडेट से आपके दोस्तों या परिवार के साथ किए गए आपके मैसेज की निजता या गोपनीयता पर असर नहीं पड़ेगा।'

क्या है पूरा मामला

दरअसल, वॉट्सऐप ने हाल ही में अपने यूजर्स को सेवा की शर्तों और नई प्राइवेसी पॉलिसी के बारे में अपडेट देना शुरू किया था। अपडेट में कहा गया था कि वॉट्सऐप की सेवाओं का उपयोग जारी रखने के लिये यूजर्स को 8 फरवरी, 2021 तक नई शर्तों और नीति से सहमत होना होगा।

यह भी पढ़ें: कोर्ट तक पहुंचा WhatsApp की नई प्राइवेसी पॉलिसी का विरोध, दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर

वॉट्सऐप की इस दादागिरी को देखते हुए काफी यूजर्स ने ऐप को अपने फोन से हटाना शुरू कर दिया था। इस विवाद का फायदा सोशल मैसेजिंग ऐप टेलीग्राम और सिग्नल को मिला। इस ऐप्स के डाऊनलोड में अचानक से वृद्धि दर्ज की गई। यूजर्स के गुस्से का शिकार होने के बाद वॉट्सऐप ने अखबारों में बड़े-बड़े विज्ञापन देकर स्पष्टीकरण जारी किए, फिर भी लोगों ने कंपनी की एक नहीं सुनी। इन हालात में आखिरकार कंपनी को अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी को स्थगित करने के लिए मजबूर होना पड़ा है। हालांकि यह सवाल अब भी बना हुआ है कि क्या इतने विवाद के बाद क्या यूज़र्स वॉट्सऐप पर पहले की तरह भरोसा कर पाएंगे या उनके मन में उपजा संदेह अब भी बना रहेगा?