Betul: आदिवासी युवक ने थाने से लौटकर की खुदकुशी, परिजनों ने लगाया पुलिस प्रताड़ना का आरोप

युवक को दो साल पुराने मामले में थाने ले गई थी पुलिस, वापस लौटने के बाद युवक ने खा लिया जहर, परिजनों ने पुलिस पर भारी रिश्वत मांगने का लगाया आरोप, TI लाइन अटैच

Updated: Jan 28, 2021, 10:48 AM IST

Betul: आदिवासी युवक ने थाने से लौटकर की खुदकुशी, परिजनों ने लगाया पुलिस प्रताड़ना का आरोप
Photo Courtesy: MPBreaking

बैतूल। मध्यप्रदेश के बैतूल में एक आदिवासी युवक ने पुलिस थाने में की गई पूछताछ के बाद घर लौटकर खुदकुशी कर ली। उसके परिजनों ने आरोप लगाया है कि उसने यह कदम पुलिस की प्रताड़ना से तंग आकर उठाया। मृतक के परिजनों ने पुलिस पर युवक से भारी-भरकम रिश्वत मांगने का आरोप लगाते हुए दावा किया है कि इसीलिए उसने आत्महत्या की। मामले पर विवाद बढ़ता देख जिला एसपी ने आरोपी TI को लाइन अटैच कर जांच के लिए टीम बनाई है।

दरअसल, जिले के चिचोली थाना अंतर्गत सेहरा गांव में दो साल पहले एक युवक का कत्ल हुआ था। उस कत्ल की गुत्थी पुलिस अबतक नहीं सुलझा सकी है। पुलिस ने उसी केस के सिलसिले में पूछताछ के लिए मृतक के करीबी दोस्त सियाराम धुर्वे को थाने लेकर गई थी। थाने से वापस आने के बाद के बाद धुर्वे ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली। आरोप है कि इस हत्याकांड में पुलिस लगातार सियाराम धुर्वे को परेशान कर रही थी।

मृतक सियाराम की पत्नी का आरोप है पुलिस ने उसके पति के साथ बेरहमी से मारपीट की थी और उससे रिश्वत भी मांगी गई। इसके चलते वो थाने से लौटने के बाद काफी परेशान था। धुर्वे की आत्महत्या के बाद इलाके में पुलिस के खिलाफ आक्रोश बढ़ गया है और हालात तनावपूर्ण हो गए हैं। आक्रोशित ग्रामीणों ने सियाराम का शव चिचोली थाने के सामने रखकर घेराव भी किया।

ग्रामीणों ने तत्काल टीआई सहित चार आरक्षकों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किए जाने की मांग भी की है। मामला बढ़ता देख बैतूल एसपी ने चिचोली थाना प्रभारी को तत्काल लाइन अटैच कर दिया और मामले की जांच के लिए टीम बना दी है। कलेक्टर ने सियाराम के परिवार को प्रशासन की तरफ से 10 हज़ार रुपये की आर्थिक सहायता देने का एलान किया है।