साध्वी प्रज्ञा चाहती हैं कि हम उनकी जी हुजूरी करें, उनका नौकर बनकर रहें- एम्स डायरेक्टर

भोपाल एम्स डायरेक्टर डॉ सरमन सिंह ने सांसद साध्वी प्रज्ञा पर गंभीर आरोप लगाए हैं, उन्होंने कहा है कि प्रज्ञा मेरे जगह अपने आदमी को बैठाना चाहती हैं

Updated: Jul 15, 2021, 04:45 PM IST

साध्वी प्रज्ञा चाहती हैं कि हम उनकी जी हुजूरी करें, उनका नौकर बनकर रहें- एम्स डायरेक्टर

भोपाल। एम्स भोपाल के डायरेक्टर डॉ सरमन सिंह ने बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा पर गंभीर आरोप लगाए हैं। डॉ सिंह ने कहा है की साध्वी प्रज्ञा चाहती हैं कि हम उनकी जी हुजूरी करें। उनका नौकर बनकर रहें। बाकी सब काम छोड़ दें। उन्होंने यह भी कहा है की प्रज्ञा ठाकुर मेरे जगह किसी अपने व्यक्ति को बैठाना चाहती हैं।

दरअसल, भोपाल जिला योजना की समीक्षा बैठक के दौरान सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने आरोप लगाया था कि कोरोना काल में भोपाल एम्‍स डायरेक्टर ने अस्पताल में व्यवस्थाएं अच्छी नहीं कराईं। म्यूकरमाइकोसिस के मरीजों को एंफोटेरिसिन इंजेक्शन उपलब्ध नहीं कराए गए। इतना ही नहीं उन्होंने डॉ सिंह पर भ्रष्टाचार में लिप्त होने का आरोप लगाते हुए कहा कि मैं दिल्ली जाकर उन्हें हटाने की मांग करूंगी।

यह भी पढ़ें: सिंधिया और एयर इंडिया दोनों बिकाऊ, एक बिकाऊ को दूसरी संस्था बेचने की जिम्मेदारी- सिंधिया पर बरसे भूपेश बघेल

स्थानीय विधायक पीसी शर्मा ने इस दौरान डाॅ सरमन सिंह पर जनप्रतिनिधियों की अवहेलना का आरोप लगाया। इस बैठक में भोपाल के प्रभारी मंत्री भूपेन्द्र सिंह और चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग भी मौजूद थे। इस पूरे मामले पर एक प्रमुख हिंदी अखबार से बातचीत करते हुए एम्स डायरेक्टर ने प्रज्ञा ठाकुर पर पलटवार किया है।

एम्स डायरेक्टर ने कहा, 'प्रज्ञा ठाकुर मेरी कुर्सी पर अपना आदमी बैठाना चाहती हैं। उन्हें पता है कि नवंबर 2021 में मेरा रिटायरमेंट है। वे अपने खास को एम्स डायरेक्टर बनाना चाहती हैं। दरअसल, वे चाहती हैं कि हम उनकी जी-हुजूरी करते रहें, उनका सर्वेंट बनकर रहें। बाकी कोई काम न करें। मैंने यहां भ्रष्टाचार को खत्म किया। इससे ही लोगों को तकलीफ हो रही है।'

यह भी पढ़ें: गृहमंत्री के क्षेत्र दतिया में पुलिस कॉन्सटेबल का ऑन ड्यूटी शराब पीते वीडियो वायरल, SP ने किया सस्पेंड

इतना ही नहीं डायरेक्टर ने यह भी कहा कि प्रज्ञा ठाकुर चाहती हैं कि उनकी सिफारिश से मरीज भर्ती किए जाएं। इसके लिए भले ही पहले से अस्पताल में भर्ती मरीज को डिस्चार्ज ही क्यों ना करना पड़े, लेकिन इससे उन्हें कोई मतलब नहीं। बस उनका फोन कॉल रात में किसी भी समय रिसीव होना चाहिए।' सिंह ने एम्स की अधीक्षक मनीषा श्रीवास्तव पर नेताओं से मिलीभगत करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा, 'यह सब मेडिकल सुप्रिटेंडेंट मनीषा श्रीवास्तव करा रही हैं। वे नेताओं के संपर्क में रहती हैं। वह डायरेक्टर बनना चाहती हैं।'