भोपाल में सुतली बम से फटा युवक के कान का पर्दा, सुनाई देना भी बंद हुआ

भोपाल में जिला प्रशासन की तरफ से प्रतिबंधित सुतली बम फोड़ने से एक युवक के कान का पर्दा फट गया।

Updated: Oct 27, 2022, 02:00 PM IST

भोपाल में सुतली बम से फटा युवक के कान का पर्दा, सुनाई देना भी बंद हुआ

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में प्रतिबंध के बावजूद लोगों ने सुतली बम का खूब इस्तेमाल किया। शहर में सिर्फ ग्रीन पटाखों कि अनुमति थी, लेकिन लोग नहीं माने। सुतली बम फोड़ने से एक युवक के कान का पर्दा फटने की भी जानकारी सामने आई है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक युवक और उसके दोस्त दिवाली की रात सुतली बम फोड़ रहे थे। एक बम युवक के पास ही फट गया, जिससे उसके कान में सीटी की आवाज आने लगी। युवक सामान्य बात मानकर रात में सो गया। रात भर कान में दर्द हो रहा था। सुबह अचानक दर्द बढ़ गया और आवाज सुनवाई भी देना बंद हो गया। 

यह भी पढ़ें: आस्था के नाम पर अंधविश्वास: उज्जैन में खुशहाली के लिए इंसानों के ऊपर दौड़ाई गईं गौ माता

युवक भागकर डॉक्टर के पहुंचा। डॉक्टर ने जब जांच की तो पता चला कि कान का पर्दा ही फट गया है और अंदर जख्म भी हो गया है। जो एंडोस्कोपी में साफ-साफ देखा जा सकता है। ENT एक्सपर्ट डॉक्टर एसपी दुबे ने युवक की जांच के बाद कहा कि युवक के कान में बहुत तेज दर्द हो रहा था। जब हमने एंडोस्कोप डालकर देखा तो उसके कान का पर्दा फटा हुआ था। वहीं युवक द्वारा कान में सरसों के तेल डालने से ये मुसीबत और बढ़ गई, तेज दर्द इसी वजह से होने लगा।

भोपाल में दिवाली की रात ध्वनि के निर्धारित मानकों से अधिक शोर दर्ज किया। राजधानी में पहली बार ध्वनि प्रदूषण की जांच के लिए ऑटोमैटिक मॉनीटरिंग स्टेशन लगाई गई थी। दिवाली की रात साइलेंस जोन यानी संत हिरदामरा नगर में अस्पताल के पास लगे स्टेशन में ध्वनि प्रदूषण अधिकतम 98.1 डेसीबल दर्ज किया गया। जबकि यह रात में 40 डेसीबल होना चाहिए। वहीं, आवासीय क्षेत्र पर्यावरण परिसर में लगे मॉनिटरिंग स्टेशन में ध्वनि प्रदूषण 95.5 डेसिबल दर्ज किया गया। जबकि यह रात में 45 डेसिबल तक रहना चाहिए।