भोपाल में बालिका गृह की तीन और लड़कियां पड़ी बीमार, अस्पताल में भर्ती

एक बच्ची की संदिग्ध मौत की जाँच कर रही SIT के पहुँचने के बाद अचानक बिगड़ी तीन लड़कियों की हालत, एक लड़की की माँ ने बिना बताए बेटी को अस्पताल में भर्ती कराने और मिलने से रोकने पर उठाए सवाल

Updated: Jan 25, 2021, 10:24 AM IST

भोपाल में बालिका गृह की तीन और लड़कियां पड़ी बीमार, अस्पताल में भर्ती
Photo Courtesy: Dainik Bhaskar

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी में बालिका गृह में रहने वाली तीन और लड़कियाँ रहस्यमय रूप से बेहद बीमार पड़ गई हैं। तीनों लड़कियों को रात में ही अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा है। दो लड़कियों को जेपी अस्पताल में और एक को हमीदिया में एडमिट कराया गया है। 

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक़ बेटी की हालत खराब होने की जानकारी मिलते ही उनके परिजन देर रात हमीदिया अस्पताल पहुंच गए। एक लड़की की मां ने कहा कि उन्हें अपनी बेटी से न्मिलने नहीं दिया जा रहा। उन्होंने सवाल किया कि मेरी बेटी को यह कैसी जगह रखा है, जहां उसकी तबीयत खराब हो रही है? ये कैसा कानून है कि बेटी की तबीयत खराब होने पर उसके परिवार को नहीं बताया जाता। चुपके से एडमिट करा देते हैं। उन्होंने कहा कि मुझे बहुत डर लग रहा है। मेरी बेटी को क्या हुआ है, कोई नहीं बता रहा।

दरअसल प्यारे मियां यौन शोषण मामले में एक नाबालिग की रहस्यमय मौत के बाद कई लड़कियों की लगातार हालत खराब हो रही है।  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूरे मामले की जांच एसआईटी से कराने के आदेश तो दे दिए हैं, लेकिन बताया जा रहा है कि एसआईटी की टीम ने अब तक किसी भी लड़की के बयान नहीं लिए हैं।

ख़बरों के मुताबिक़ एसआईटी की टीम रविवार को बालिका गृह पहुंची। लेकिन तभी लड़कियों को चक्कर आने लगे, उल्टी होने लगी। एक लड़की के पेट में अचानक दर्द शुरू हो गया। हालत बिगड़ने पर दो लड़कियों को जेपी अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया। दोनों की सेहत फिलहाल स्थिर बताई जा रही है। वहीं एक अन्य नाबालिग को हमीदिया अस्पताल में भर्ती किया गया।

बता दें कि इन नाबालिग लड़कियों में से एक की तबीयत शनिवार को खराब हुई थी। तब उसे जेपी अस्पताल में एडमिट कराया था। लेकिन जांच के बाद उसे फिर से बालिका गृह भेज दिया गया था। मीडिया में सूत्रों के हवाले से आ रही ख़बरों के मुताबिक अगर लड़कियों की सेहत में सुधार नहीं हुआ तो तीनों को इलाज के लिए AIIMS भेजा जाएगा। जिला प्रशासन ने बच्चियों के लिए काउंसलर नियुक्त करने के आदेश भी दिए हैं।

प्यारे मियां यौन शोषण मामले में एक बच्ची की हाल ही में संदिग्ध मौत हो गई थी। पुलिस के मुताबिक उसने कुछ दिनों पहले नींद की  गोलियां खा ली थीं। इसके बाद उसे संदिग्ध हालात में हमीदिया अस्पताल में भर्ती किया गया और वेंटिलेटर पर रखा गया था, जहां उसने दम तोड़ दिया। इस घटना के बाद बालिका संरक्षण गृह की अधीक्षिका एंटोनिया कुजूर इक्का को हटाकर नई अधीक्षिका योगिता मुकाती को नियुक्त किया गया।