MP By Election: बीजेपी का दंडवत दांव जारी, अब तुलसी सिलावट ने भी घुटनों के बल मांगे वोट

BJP Election Campaign: सीएम शिवराज, संतराम सिरोनिया और जसवंत जाटव पहले ही कर चुके हैं वोट के लिए दंडवत प्रणाम

Updated: Oct 15, 2020 03:12 PM IST

MP By Election: बीजेपी का दंडवत दांव जारी, अब तुलसी सिलावट ने भी घुटनों के बल मांगे वोट

भोपाल। मध्य प्रदेश उपचुनाव के दंगल में क्या दंडवत दांव के भरोसे ही किस्मत आजमा रही है बीजेपी? बीजेपी नेताओं का पिछले कुछ दिनों का रिकॉर्ड तो कुछ ऐसा ही बता रहा है। चुनावी मंच से वोट मांगने के लिए दंडवत प्रणाम करने वाले बीजेपी नेताओं की सूची में अब तुलसी सिलावट भी शामिल हो गए हैं। 

बीजेपी उम्मीदवार तुलसी सिलावट के मंच से ही दंडवत प्रणाम करने का यह दिलचस्प नज़ारा सांवेर की एक जनसभा में देखने को मिला। सांवेर विधानसभा क्षेत्र में प्रचार के दौरान सिलावट ने कहा कि अब वोट मांगने के लिए बेहद कम वक्त बचा है, इसलिए तमाम मतदाताओं को मंच से ही प्रणाम कर रहा हूं और इसके बाद घुटने टेक कर दंडवत प्रणाम की मुद्रा में आ गए। सिलावट का ये वही कार्यक्रम है, जिसमें कोरोना गाइडलाइन्स का पालन नहीं होने को लेकर FIR भी दर्ज की जा चुकी है। रिपोर्ट्स के मुताबिक इस कार्यक्रम में 100 लोगों के आने की अनुमति थी, लेकिन शामिल करीब 3 हजार लोग हुए थे।

दंडवत के भरोसे चुनाव जीतने की कोशिश 

तुलसी सिलावट वोट के लिए घुटने टेककर दंडवत करने वाले इकलौते बीजेपी नेता नहीं हैं। उनसे पहले खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, संतराम सिरोनिया और जसवंत जाटव भी इसी अंदाज़ में वोट मांग चुके हैं। सीएम शिवराज ने पिछले हफ्ते ब्यावरा में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान ऐसा  किया था। भांडेर से बीजेपी प्रत्याशी रक्षा सिरोनिया के पति संतराम सिरोनिया भी रविवार को वोटों के लिए सड़क पर साष्टांग दंडवत करते नजर आए थे। करैरा के बीजेपी प्रत्यशी जसवंत जाटव भी सिंधिया के साथ मंच साझा करने के दौरान घुटनों के बल आकर जनता से पिछली गलतियां माफ करने और एक बार फिर से वोट देने की अपील कर चुके हैं। 

ऐसा लगता है कि बीजेपी ने इन उपचुनावों में दंडवत प्रणाम को अपने प्रचार का खास नुस्खा बना लिया है। शायद उन्हें ऐसा इसलिए करना पड़ रहा है, क्योंकि कांग्रेस लगातार मतदाताओ से कह रही है कि वे जनता के वोटों का सौदा करने वाले दल-बदलुओं को वोट न दें। कांग्रेस की इस अपील का असर भी कई इलाकों में बीजेपी प्रत्याशियों के विरोध के रूप में देखने को मिल रहा है। ऐसे में बीजेपी नेताओं को शायद यह लगने लगा है कि घुटने टेककर वोट मांगने या दंडवत प्रणाम करने से दल-बदलुओं के प्रति लोगों की नाराज़गी कुछ कम हो जाएगी।

ऐसे में बीजेपी अपनी इस रणनीति के तहत लोगों का गुस्सा कम करने हेतु दंडवत प्रणाम करने का अभियान चला रही है।