Amphotericin-B इंजेक्शन लेने के बाद ब्लैक फंगस के 27 मरीजों की बिगड़ी तबियत, रोका गया इस्तेमाल

मध्यप्रदेश के सागर स्थित बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में भर्ती मरीजों को एंटी फंगल वैक्सीन का रिएक्शन, 27 ब्लैक फंगस मरीजों को होने लगा उल्टी, इस्तेमाल पर लगी रोक

Updated: Jun 07, 2021, 09:16 AM IST

Amphotericin-B इंजेक्शन लेने के बाद ब्लैक फंगस के 27 मरीजों की बिगड़ी तबियत, रोका गया इस्तेमाल
Photo Courtesy: Mint

सागर। ब्लैक फंगल इंफेक्शन ने देशभर में कहर बरपा रखा है। इस खतरनाक बीमारी का एकमात्र इलाज एंटी फंगल इंजेक्शन है। एंटी फंगल इंजेक्शन पाने के लिए मरीजों के परिजन जमीन-आसमान एक कर रहे हैं। उधर मध्यप्रदेश के सागर में Amphotericin-B इंजेक्शन लेने के बाद पीड़ित मरीजों की तबियत सुधरने के बजाए और बिगड़ गई। इसके बाद इंजेक्शन के इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई है।

बताया जा रहा है कि सागर स्थित बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में ब्लैक फंगस के 42 मरीज भर्ती हैं। यहां मरीजों को Amphotericin-B इंजेक्शन दिया गया था। इंजेक्शन लेने के बाद ही 27 मरीजों की तबियत अचानक बिगड़ गई। मरीजों को उल्टी और बुखार की शिकायत होने लगी। इसकी जानकारी मिलते ही अन्य मरीजों को इंजेक्शन लगाने पर रोक लगा दिया गया।

यह भी पढ़ें: मशहूर शायर मंजर भोपाली के घर आया 36 लाख का बिजली बिल, बोले- शायर के साथ ऐसा मजाक ठीक नहीं

बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज के पीआरओ डॉक्टर उमेश पटेल ने बताया कि सभी मरीजों को राज्य सरकार की तरफ से भेजे गए Amphotericin-B इंजेक्शन लगाया गया था। इंजेक्शन लेने के तत्काल बाद मरीजों की तबीयत बिगड़ने लगी। डॉक्टरों ने आनन फानन में इंजेक्शन के इस्तेमाल पर रोक लगा दिया और मरीजों का सिम्प्टोमैटिक ट्रीटमेंट शुरू किया गया। अस्पताल प्रबंधन के मुताबिक अब मरीजों की हालत स्थिर है।

जानकारी के मुताबिक राज्य सरकार ने बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज को करीब 350 Amphotericin-B इंजेक्शन उपलब्ध कराया था। हालांकि, बीएमसी को अबतक जिस ब्रांड के इंजेक्शन दिए जाते थे, इसबार वह नहीं था। यह इंजेक्शन किसी दूसरे मैन्युफैक्चरिंग कंपनी में बनी थी। फिलहाल इस मामले की जानकारी सरकार को दे दी गई है, साथ ही रिएक्शन क्यों हुआ इसका पता लगाया जा रहा है।