ग्वालियर में ऑटो और बस में भीषण टक्कर, 12 महिलाओं सहित ऑटो चालक की हुई मृत्यु

सभी महिलाएं सोमवार रात को आंगनबाड़ी का खाना बनाकर लौट रही थीं, आनंदपुर ट्रस्ट अस्पताल के सामने यह दर्दनाक हादसा हुआ है

Updated: Mar 23, 2021, 11:28 AM IST

ग्वालियर में ऑटो और बस में भीषण टक्कर, 12 महिलाओं सहित ऑटो चालक की हुई मृत्यु
Photo Courtesy: Dainik Bhaskar

ग्वालियर। ग्वालियर में मंगलवार सुबह एक बस और ऑटो में भीषण टक्कर हो गई। दर्दनाक हादसे में 13 लोगों को अपनी ज़िन्दगी से हाथ धोना पड़ गया। मृतकों में 12 महिलाएं और ऑटो चालक शामिल हैं। ऑटो में सवार सभी 13 लोगों की मौत हो गई। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।

सड़क हादसे में जान गंवाने वाले मृतकों के परिजनों को राज्य सरकार ने चार चार लाख रुपए का आर्थिक मुआवजा देने का ऐलान किया है। वहीं हादसे में घायल लोगों को राज्य सरकार 50 हज़ार रुपए का मुआवजा देगी।

रिपोर्ट्स के अनुसार सभी महिलाएं मंगलवार रात आंगनबाड़ी में खाना बना कर लौट रही थीं। ऑटो ग्वालियर से मुरैना के चमन रोड की तरफ जा रहा था।जबकि बस मुरैना से ग्वालियर की तरफ जा रही थी। आनंदपुर ट्रस्ट अस्पताल के पास बस और ऑटो के बीच में भीषण टक्कर हो गई। टक्कर के बाद 9 महिलाओं ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। ऑटो ड्राइवर की मृत्यु भी मौके पर ही हो गई। जबकि तीन महिलाओं ने अस्पताल पहुंचते पहुंचते दम तोड़ दिया।

स्थानीय लोगों का इस दर्दनाक हादसे को लेकर कहना है कि पहले ये महिलाएं दो अलग अलग ऑटो में सवार थीं। लेकिन रास्ते में एक ऑटो खराब होने के कारण 6 महिलाएं हादसे का शिकार हुए ऑटो में आ गईं। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि महिलाओं ने तय किया था कि पुरानी छावनी से वे दूसरा ऑटो कर लेंगी। लेकिन इससे पहले कि वे ऑटो बदलतीं, सभी हादसे का शिकार हो गईं। मामले में ग्वालियर आरटीओ एपीएस चौहान को सस्पेंड कर दिया गया है।

भीषण सड़क हादसे पर कमल नाथ ने अपनी संवेदना व्यक्त की है। पूर्व मुख्यमंत्री ने सरकार से अपील की है कि वह पीड़ितों और उनके परिजनों की हर संभव मदद करे। कमल नाथ ने हादसे पर शोक व्यक्त करते हुए कहा, 'ग्वालियर में बस व ऑटो में हुई भीषण दुर्घटना में 13 लोगों की दुखद मृत्यु का समाचार व्यथित करने वाला है। पीड़ित परिवारों के प्रति मेरी शोक संवेदनाएँ।घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूँ।मै सरकार से माँग करता हूँ कि इस ह्रदय विदारक दुर्घटना में पीड़ित परिवारों की हर संभव मदद की जावे , घायलों के समुचित इलाज की व्यवस्था हो।