छतरपुर: सकुशल बाहर आया बोरवेल में गिरा मासूम, करीब 7 घंटे चली रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद मिली सफलता

रेस्क्यू टीम ने बोरवेल में रस्सी डाली, बच्चे ने उसे अपने कंधे में फंसाया और इस तरह उसे खींचकर निकालने में मिली सफलता

Updated: Jun 30, 2022, 12:12 AM IST

छतरपुर: सकुशल बाहर आया बोरवेल में गिरा मासूम, करीब 7 घंटे चली रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद मिली सफलता

छतरपुर। छतरपुर जिले के नारायणपुरा गांव में बोरवेल में गिरे 5 साल के दीपेंद्र यादव को सकुशल बाहर निकाल लिया गया है। करीब 7 घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद दीपेंद्र को सुरक्षित निकाला गया। फिलहाल उसे डॉक्टरों की निगरानी में रखा गया है।

दरअसल, बुधवार को 5 साल का बच्चा यहां बोरवेल में गिर गया। घटना ओरछा रोड थाना क्षेत्र अंतर्गत नारायणपुरा और पठापुर गांव के पास हुई। रेस्क्यू टीम ने बोरवेल के पास खुदाई शुरू कर दी थी। हालांकि, बाद में उसे रस्सी के सहारे ही बाहर निकाला गया। बोरवेल में रस्सी डाली गई और बच्चे ने उसे अपने कंधे में फंसा लिया। इसी तरह उसे खींचकर सुरक्षित बाहर निकाला गया।

बोरवेल में गिरने वाले बच्चे का नाम दीपेंद्र यादव है। घटना दोपहर करीब ढाई बजे की बताई जा रही है। बताया जा रहा है की खेलते वक्त दीपेंद्र 8 इंच के बोरवेल में गिर गया था। इससे पहले जिला कलेक्टर संदीप जीआर ने इस घटना की जानकारी देते हुए बताया था कि बोरवेल के पैरलेल एक गड्ढा खोदकर सुरंग के माध्यम से हम उसे निकालने का प्रयास कर रहे हैं। बच्चे को ऑक्सीजन दे दी गई है।

घटनास्थल पर तीन जेसीबी लगाए गए हैं और तेजी से गड्ढा खोदा जा रहा था। सीएम शिवराज भी इस घटना पर लगातार नजर बनाए हुए थे।

बता दें कि इसी महीने पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ में जांजगीर चाम्पा जिले के पिहरीद गांव में 12 साल का राहुल बोरवेल में गिर गया था, जिसे 104 घंटे रेस्क्यू कर बोरवेल से बाहर निकाला गया था। पत्थर की वजह से सुरंग बनाने में रेस्क्यू टीम को भारी मशक्कत करनी पड़ी थी। देश में अब तक का यह सबसे बड़ा रेस्क्यू ऑपरेशन था।