सीधी बस हादसा: सड़क ठीक होती तो बिछड़ता नहीं मेरा पोता, सीएम के सामने फूटा पीड़ितों का दर्द

सीधी बस हादसे में अपने पोते और बहू को गँवाने वाले दादा ने मुख्यमंत्री शिवराज से सड़क ठीक कराने की लगाई गुहार, ख़राब सड़क पर लगे ट्रैफ़िक जाम को माना जा रहा है भयानक हादसे की बड़ी वजह

Updated: Feb 17, 2021, 06:45 PM IST

सीधी बस हादसा: सड़क ठीक होती तो बिछड़ता नहीं मेरा पोता, सीएम के सामने फूटा पीड़ितों का दर्द
Photo Courtesy: twitter

सीधी। भयानक बस हादसे के दूसरे दिन पीड़ित परिवारों से मिलने पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को शोक में डूबे परिजनों के दुख-दर्द के साथ-साथ उनके गुस्से का सामना भी करना पड़ा। कुछ परिजन मुख्यमंत्री के सामने रो पड़े तो कुछ ने अपनी नाराज़गी का भी खुलकर इज़हार किया। एक परिवार ने तो उनसे यहां तक कहा कि दोषियों पर रहम मत कीजिए। हादसे के लिए जिम्मेदार लोगों को सस्पेंड करना काफी नहीं है, उन्हें बर्खास्त किया जाना चाहिए।

शिवराज चौहान एक पीड़ित परिवार में पहुंचे तो वहां अपने पोते औऱ बहू को गंवाने वाले दादा बिलख पड़े। उन्होंने शिकायती लहजे में कहा कि अगर सड़क जाम न होती तो मेरे पोते और बहू जिंदा होते। आप तो सड़क बनवा दीजिए, ताकि हमारे साथ जो हादसा हुआ, भविष्य में किसी और परिवार के साथ न हो। पीड़ित सुरेश गुप्ता अपनी बहू पिंकी और पोते अथर्व के साथ सफर कर रहे थे। सुरेश बच गए, जबकि बहू और पोता नहर में डूब गए। 

इस दौरान मुख्यमंत्री ने वादा किया कि सड़क का निर्माण जल्द से जल्द कराया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जो बेटा-बेटी और भाई-बहन इस एक्सीडेंट का शिकार हुए हैं, उन्हें अब वापस तो नहीं लाया जा सकता, लेकिन उन परिवारों की जिंदगी आसान बनाने की हरसंभव कोशिश की जाएगी।

 

मुख्यमंत्री ने पीड़ित परिवारों को 7-7 लाख रुपये का चेक प्रदान किया। सीएम रामपुर नैकिन, चुरहट, कुकरझर, सीधी, पचोखर औऱ पड़रिया जाकर भी पीड़ित परिवारों से मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने हादसे में कई लोगों की जान बचाने वाली शिवरानी से भी मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने एलान किया कि अपनी जान पर खेलकर दूसरों की जान बचाने वाली शिवरानी की पढ़ाई की व्यवस्था सरकार करेगी। सीएम ने कहा कि शिवरानी समाज, प्रदेश और देश का गौरव है।  

मंगलवार को सीधी से सतना आ रही बस हादसे का शिकार हो गई थी, जिसमें 51 लोगों की मौत हो गई थी। पुलिस ने सतना से आरोपी बस ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया है। सीधी बस हादसे से सबक लेते हुए पूरे प्रदेश में बसों की चेकिंग शुरू हो गई है। बुधवार को प्रशासन ने जांच के दौरान दो बसों को जब्त किया है। अब तक कई ऐसी बातें सामने आई हैं, जिनके चलते इस भयानक हादसे के लिए सड़क की खस्ता हालत और परिवहन विभाग की लापरवाही को जिम्मेदार माना जा रहा है।