पीएम मोदी के आगमन तक मौत का आंकड़ा छुपाना चाहते हैं शिवराज, कांग्रेस का सीएम पर बड़ा आरोप

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि कमला नेहरू अस्पताल में हुए हादसे में मरने वाले बच्चों का आंकड़ा छुपाने का खेल चल रहा है, मौत का आंकड़ा छिपाने के इस खेल में सीएम शिवराज खुद शामिल हैं, कांग्रेस के मुताबिक मृतक बच्चों का आंकड़ा धीरे धीरे अन्य बीमारियों से होने वाली मौतों में दर्ज कर दिया जाएगा

Publish: Nov 10, 2021, 11:10 AM IST

पीएम मोदी के आगमन तक मौत का आंकड़ा छुपाना चाहते हैं शिवराज, कांग्रेस का सीएम पर बड़ा आरोप

भोपाल। राजधानी भोपाल के कमला नेहरू अस्पताल में हुए हादसे के कारण नवजात बच्चों की मौतों का आंकड़ा अधिक होने की आशंका है। विपक्षी पार्टी कांग्रेस लगातार शिवराज सरकार पर मौत का आंकड़ा छुपाने का आरोप लगा रही है। कांग्रेस ने आंकड़े छिपाने के खेल का ज़िम्मेदार सीएम शिवराज सिंह चौहान को ठहराया है। 

कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने सीएम पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि सीएम शिवराज प्रधानमंत्री मोदी के भोपाल आगमन तक मौतों का आंकड़ा छुपाना चाहते हैं। प्रधानमंत्री के आने तक नवजात बच्चों की मौत के आंकड़े में हेराफेरी कर, इन मौतों को धीरे धीरे अन्य बीमारियों से हुई मौतों में दर्ज कर दिया जाएगा। नरेंद्र सलूजा ने कहा कि सिर्फ जश्न मनाने के लिए सीएम शिवराज अपनी असंवेदनशीलता दिखा रहे हैं। 

हादसे के वक्त डिनर करने में व्यस्त थे सीएम, अगले दिन मिठाई खा रहे थे

नरेंद्र सलूजा ने अपने ट्विटर हैंडल पर सीएम पर निशाना साधते हुए कहा कि शिवराज जी, आप कह रहे हैं कि भोपाल के कमला नेहरू अस्पताल हादसे के बाद आपका मन-आत्मा व्यथित है, हर हादसे की तरह आप इस हादसे के बाद भी रात भर सो नही पाये, आप मौक़े पर जाना चाहते थे लेकिन आपको बचाव कार्य प्रभावित होंगे, कह कर रोक दिया गया।शिवराज जी,हादसा 8 नवंबर को रात 8 बजे हुआ, 38 घंटे बीत चुके है। बचाव कार्य तो 2 घंटे में ही हो चुके थे।

कांग्रेस प्रवक्ता ने आगे कहा कि जिस समय हादसा हुआ, आप जीत की बधाइयाँ ले रहे थे,मंत्रियो के साथ डिनर में व्यस्त थे।अगले दिन भी आप जीत की मिठाइयाँ वल्लभ भवन में खा रहे थे,केबिनेट की मीटिंग ले रहे थे,आरएसएस से जुड़े नेता की किताब का विमोचन कर रहे थे। 

दो दिन बाद भी अस्पताल क्यों नहीं पहुंच पाए सीएम 

नरेंद्र सलूजा ने कहा कि आखिर सीएम शिवराज हादसे के दो दिन बाद भी अस्पताल तक क्यों नहीं पहुंच पाए। सलूजा ने ट्वीट किया कि आप तो श्यामला हिल्स की छत पर खड़े हो जाते तो आपको हमिदिया अस्पताल दिख जाता लेकिन आप चंद दूरी पर स्थित अस्पताल दो दिन तक नही पहुँचे पाये?आप ख़ुद को बच्चों का मामा कहते हो, ये कैसी आपकी संवेदनशीलता?आप तो ठीक आपकी पार्टी के अन्य बड़े नेताओ ने कौनसा अस्पताल जाकर झांका?

सलूजा ने आगे कहा कि इसके पीछे कारण यह है कि मासूमों की मौत का आँकड़ा बड़ा है,आपकी सरकार उसे मोदीजी के आगमन तक छुपाना चाहती है।मौत के आँकड़े धीरे-धीरे अन्य बीमारियों से मौत बताकर जारी किये जायेंगे।क्योंकि आपको 15 नव. को जश्न मनाना है।इस घटना से एक बार फिर आपकी संवेदनशीलता की असलियत सामने आ चुकी है।

यह भी पढ़ें : हमीदिया अस्पताल कांड में बाल आयोग का स्वतः संज्ञान, मुख्य सचिव को दिए जांच समिति गठित करने के निर्देश

दरअसल सोमवार रात को कमला नेहरू अस्पताल के चाइल्ड वार्ड में आग लगने की वजह से चार नवजात बच्चों ने दम तोड़ दिया। विभिन्न मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि इस हादसे में अब तक बारह बच्चों की जान जा चुकी है। लेकिन राज्य सरकार आधिकारिक तौर पर केवल चार मौतों को ही पुष्टि कर रही है। जिस वजह से राज्य सरकार पर मौत का आंकड़ा छुपाने का आरोप लग रहा है।