Flood in MP: सेना ने संभाला मोर्चा, 8 हजार लोग रेस्क्यू

MP Weather Updates: प्रदेश के 12 जिलों के 411 गांव बाढ़ से प्रभावित, रात भर चले रेस्क्यू ऑपरेशन में बचाए गए 8000 लोग

Updated: Aug-30, 2020, 07:27 PM IST

Flood in MP: सेना ने संभाला  मोर्चा, 8 हजार लोग रेस्क्यू

भोपाल। मध्य प्रदेश में भारी बारिश का कहर जारी है। लगातार हो रही बारिश से तबाही का मंजर, निचली बस्तियों में पानी भर चुका है। स्थिति संभालने के लिए सेना मैदान में हैं। प्रदेश के 12 जिलों के 411 गांव बाढ़ से प्रभावित हैं। रात भर चले रेस्क्यू ऑपरेशन में लगभग 8000 लोग बचाए गए हैं, उन्हें सुरक्षित कैंपों में पहुंचाया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से चर्चा कर उन्हें प्रदेश में बारिश और बाढ़ की स्थिति की जानकारी दी है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया किसी रायसेन, होशंगाबाद, सीहोर जिलों के नर्मदा और अन्य नदियों के निकट बसे लोगों और अधिक वर्षा से प्रभावित क्षेत्रों में पूरी सहायता दी जा रही है। करीब 800 लोगों को राहत शिविरों में पहुंचाया गया है। सेना ने 5 हेलीकॉप्टर भेजे हैं। सीहोर जिले के नरेला में पेड़ में बैठे हुए पांच लोग रात 2:30 बजे सुरक्षित निकाले गए हैं। रात को मैंने सेना के 5 हेलीकॉप्टर मांगे थे। तीन हेलीकॉप्टर टेक ऑफ कर चुके हैं दो की और तैयारी है। एयरलिफ्ट करने का कार्य रविवार सुबह रायसेन के भौंती गांव में प्रारंभ हुआ। 

 

मुख्यमंत्री चौहान ने आमजन से अपील की से पानी से घिरे स्थानों पर रहने की जिद न करते हुए प्रशासन जब निकलने का कहे तो सावधानी रखते हुए तुरंत अन्य स्थान पर या राहत शिविर में शिफ्ट होने में सहयोग करें ।बेहतर से बेहतर व्यवस्थाएं की जा रही हैं कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वैच्छिक संगठनों से भी आग्रह किया है कि सहयोग का हाथ बढ़ाएं। बाढ़ प्रभावित लोगों को भोजन वस्त्र और अन्य सहायता प्रदान करने में सहयोग करें।

मध्य प्रदेश में बारिश

कच्चे मकानों में रहने वालों को मकान खाली करने की अपील करते हुए मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि कटनी,शाजापुर और देवास में ऐसी घटनाओं से प्रभावित लोगों को आवश्यक सहायता दी गई है। ऐसे कच्चे मकान जो खतरनाक सिद्ध हो सकते हैं और भारी बारिश नहीं सह पाते उन्हें खाली करवाया जा रहा है।