आदिवासी को तो आदिवासी भी नहीं मानती भाजपा, वनवासी बताती है: दिग्विजय सिंह

बीजेपी पर दिग्विजय सिंह बोला हमला, कहा, भाजपा के पास चुनाव लड़ने के लिए उम्मीदवार भी नहीं, बिकाऊ नेताओं के भरोसे लड़ती है चुनाव

Publish: Oct 06, 2021, 08:49 AM IST

आदिवासी को तो आदिवासी भी नहीं मानती भाजपा, वनवासी बताती है: दिग्विजय सिंह

भोपाल। मंगलवार को एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने शिवराज सरकार की नीतियों पर जमकर हमला बोला। दिग्विजय सिंह बीजेपी पर आदिवासी विरोधी कार्य करने का आरोप लगाया। इसके साथ ही कांग्रेस नेता ने बीजेपी के अंतर्कलह पर टिप्पणी करते हुए कहा कि बीजेपी के पास चुनाव लड़ने के लिए अपने उम्मीदवार तक नहीं हैं, बीजेपी बिकाऊ नेताओं के भरोसे ही चुनाव लड़ती है। 

भाजपा ने आदिवासियों को धोखा दिया

राज्यसभा सांसद ने कहा कि कांग्रेस पार्टी हमेशा से आदिवासी भाइयों और जनजाति के हितों के लिए काम करती रही है लेकिन भारतीय जनता पार्टी का 16 साल का शिवराज इस बात का गवाह है कि किस तरह आदिवासियों को धोखा दिया गया है। कांग्रेस नेता ने कहा कि भोजन के अधिकार में कांग्रेस की सरकार ने जो मातृत्व लाभ की योजना बनाई थी, भारतीय जनता पार्टी की सरकार उसे भी पूर्णता लागू नहीं कर सकी। आदिवासी क्षेत्रों में कुपोषण 16 साल में समाप्त नहीं हो सका और सरकार आज वहां पर विद्यालय बंद कर शिक्षा का क्षेत्र में अंधेरा फैलाना चाहती है। 

दिग्विजय सिंह ने कहा कि आदिवासी विभाग को आदिवासी भाईयों की समस्यायों,आदिवासी फंड के दुरुपयोग और भ्रष्टाचार की ग्राऊंड रिपोर्ट लेने के लिए बुंदेलखंड महाकौशल और विंध्य क्षेत्र में यात्रा निकालनी चाहिए। 

इंदिरा गांधी ने इतिहास ही नहीं भूगोल को भी बदलकर दिखा दिया

कांग्रेस नेता ने रानी दुर्गावती के.शौर्य की प्रशंसा करते हुए कहा कि रानी लक्ष्मीबाई,अवंतिबाई की तरह वे अपनी जनता के लिये संघर्षरत थीं। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का ज़िक्र करते हुए राज्यसभा सांसद ने कहा कि बहादुर महिला नेताओं में इंदिरा जी ऐसी नेता थीं जिन्होंने इतिहास ही नही भूगोल भी बदल दिया।पाकिस्तान के चीरकर दो टुकड़े कर दिये और सिक्किम को भारत का हिस्सा बना दिया।

चार दशक में नेतृत्व तक विकसित नहीं कर पाई भाजपा 

दिग्विजय सिंह ने अपने संबोधन में बीजेपी की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़े किए। कांग्रेस नेता ने कहा कि अपने गठन के चार दशक बाद तक बीजेपी न तो नेतृत्व विकसित कर पाई और न ही नीति। कांग्रेस नेता ने कहा कि भाजपा आज भी बिकाऊ के भरोसे चुनाव लड़ती है। भाजपा कांग्रेस द्वारा शुरू की गई योजनाओं के नाम बदलकर नीति की बात करती है।यह उनका चरित्र है।