सिरोंज नगर पालिका का घूसखोर सब इंजीनियर गिरफ्तार, लोकायुक्त ने 20 हजार रुपए लेते रंगे हाथ पकड़ा

विदिशा जिले के सिरोंज में डेढ़ लाख का बिल पास करने के बदले सब इंजीनियर ने मांगे 30 हजार रुपए, पहली किस्त में लिए थे 10 हजार, दूसरी किस्त में 20 हजार रुपए लेते लोकायुक्त ने गिरफ्तार किया

Updated: Sep 02, 2021, 07:11 PM IST

सिरोंज नगर पालिका का घूसखोर सब इंजीनियर गिरफ्तार, लोकायुक्त ने 20 हजार रुपए लेते रंगे हाथ पकड़ा
Photo Courtesy: Naidunia

विदिशा। मध्यप्रदेश में लोकायुक्त पुलिस एक्शन मोड में है, पहले रीवा फिर धार और अब सिरोंज में लोकायुक्त ने बड़ी कार्रवाई की है। सिरोंज नगर पालिका के सब इंजीनियर को रिश्वत लेते भोपाल  लोकायुक्त ने रंगे हाथ पकड़ा है। फरिदारी ठेकेदार ने उसके इलाके में निर्माण कार्य करवाया था, जिसका बिल पास करने की एवज में आरोपी सब इंजीनियर अशरफ अली ने 30 हजार रुपए मांगे थे।

इंजीनियर फरियादी से पहले ही 10 हजार रुपए ले चुका था, और उस पर बार-बार 20 हजार रुपए देने का प्रेशर बना रहा था। जिसकी शिकायत ठेकेदार ने दो दिन पहले ही लोकायुक्त में की थी। फरियादी ठेकेदार की शिकायत पर लोकायुक्त पुलिस ने आरोपी को रंगे हाथ पकड़ने का प्लान बनाया। आरोपी इंजीनियर ने फरियादी को अपने घर पर ही पैसे देने के लिए बुलाया था। जैसे ही फरियादी ने सब इंजीनियर को पैसे दिए, लोकायुक्त ने दबोच लिया। आरोपी इंजीनियर खुद को बेकसूर बता रहा है। उसका कहना है कि उसे फंसाया जा रहा है। लोकायुक्त पुलिस कार्रवाई में जुटी है, पूछताछ के बाद आगे की कार्रवाई की जा रही है।

और पढ़ें: धार में 30 हजार रुपए की रिश्वत लेते ASI गिरफ्तार, मारपीट के केस में नाम नहीं जोड़ने के बदले लिया घूस

मंगलवार को रीवा के बैजनाथ गांव की महिला सरपंच के यहां 11 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति का खुलासा हुआ था। उसकी आया से अधिक संपत्ति मिली थी। सरपंच के दो आलीशान मकान, 30 गाड़ियां और दो क्रेशर मिले थे। जिनसे सरपंच ने बेहिसाब कमाई की थी। वह जेसीबी मशीनों को भी किराए पर देती थी, उससे भी कमाई होती थी। वहीं मंगलवार को धार जिले का एक सब इंस्पेक्टर 30 हजार की घूस लेते पकड़ा गया था।

और पढ़ें: रीवा में महिला सरपंच के यहां लोकायुक्त का छापा, गांव में लग्जरी बंगले समेत 10 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति का खुलासा

पुलिसवाले ने मारपीट के केस में फरियादी का नाम नहीं दर्ज करने और कम धाराएं लगाने के बदले पैसे की डिमांड की थी। इससे पहले भी पिछले कई महीनों से लोकायुक्त विभिन्न सरकारी विभागों के अफसरों पर शिकंजा कस रहा है।