रानी लक्ष्मीबाई के नाम पर रखा जाए ग्वालियर शहर का नाम, कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा ने उठाई मांग

सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि पाठ्यक्रमों में गद्दारों के नाम का भी उल्लेख होना चाहिए, इसके साथ ही उन्होंने इंदौर का नाम देवी अहिल्याबाई के नाम पर रखे जाने की मांग भी की

Updated: Jun 20, 2021, 10:26 PM IST

रानी लक्ष्मीबाई के नाम पर रखा जाए ग्वालियर शहर का नाम, कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा ने उठाई मांग

इंदौर। स्वतंत्रता सेनानी रानी लक्ष्मीबाई की पुण्यतिथि के ठीक दो दिन बाद कांग्रेस ने ग्वालियर का नाम रानी लक्ष्मीबाई के नाम पर रखे जाने की मांग की है। ग्वालियर के अलावा इंदौर शहर का नाम भी देवी अहिल्याबाई के नाम पर रखे जाने की मांग उठी है। यह मांग कांग्रेस नेता और कमल नाथ सरकार में मंत्री रहे सज्जन सिंह वर्मा ने उठाई है। 

इंदौर में शनिवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि ग्वालियर शहर का नाम स्वतंत्रता संग्राम में अहम भूमिका निभाने वाली रानी लक्ष्मीबाई के नाम पर रखा जाना चाहिए। ठीक इसी तर्ज पर इंदौर शहर का नाम देवी अहिल्याबाई के नाम पर रखा जाना चाहिए। 

पाठ्यक्रम में गद्दारों का नाम भी किया जाए शामिल 

इतना ही नहीं कांग्रेस नेता ने यह मांग भी की कि शहर का नाम इन पुण्यात्माओं के नाम रखे जाने के साथ साथ पाठ्यक्रम में गद्दारों के नाम का भी उल्लेख किया जाना चाहिए। सज्जन सिंह वर्मा का इशारा सिंधिया खानदान पर था। 

दरअसल सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने से पहले तक खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूरा बीजेपी अमला सिंधिया परिवार के अंग्रेज़ों के प्रति कथित वाफादारी के मसले पर ज्योतिरादित्य सिंधिया को घेरते आ रहा था। सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के बाद से ही अब कांग्रेस पार्टी भी सिंधिया खानदान की कथित गद्दारी का मुद्दा उछालती है। 

राज्य सरकार को कांग्रेस भेजेगी प्रस्ताव 

कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा ने न सिर्फ इंदौर में यह मांगें उठाई, बल्कि उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस पार्टी जल्द ही राज्य सरकार को इन मांगों को लेकर राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजेगी।