सिंधिया ने अपने मुंह से मास्क खोलकर पूर्व मंत्री के मुंह में लगा दिया, कांग्रेस बोली- ये रिसर्च का विषय है

ग्वालियर में ज्योतिरादित्य सिंधिया के रथ यात्रा में दिखा अद्भुत नजारा, सैंकड़ों किलो फूलों की हुई बरसात, पट्टा देने का लालच देकर आदिवासी महिलाओं को बुलाया

Updated: Sep 23, 2021, 07:16 PM IST

सिंधिया ने अपने मुंह से मास्क खोलकर पूर्व मंत्री के मुंह में लगा दिया, कांग्रेस बोली- ये रिसर्च का विषय है

ग्वालियर। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बुधवार को ग्वालियर में रथ यात्रा निकाली थी। सिंधिया के रथ यात्रा का अजब-गजब रंग देखने को मिला है। ग्वालियर प्रवास के दौरान सिंधिया का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वीडियो में सिंधिया अपने मुंह का मास्क खोलकर पूर्व मंत्री अनूप मिश्रा के मुंह में लगाते नजर आए।

कांग्रेस ने इसे रिसर्च का विषय बताया है। कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा ने कहा है कि सिंधिया ने अपना पहना हुआ मास्क अनूप मिश्रा को पहनाया। इसके पीछे का कारण अनुसंधान का विषय है। 

पट्टे का लालच देकर महिलाओं को बुलाया

सिंधिया के रथ यात्रा के दौरान ग्वालियर में लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा था। हजारों की संख्या में समर्थकों को देख सिंधिया भी फुले नहीं समा रहे थे। हालांकि, अब खबर आई है की सिंधिया के रैली में आदिवासी लोगों को पट्टे दिलाने का झांसा देकर बुलाया गया था। रथ यात्रा खत्म कर सिंधिया के महल में जाने के बाद भी जब कुछ समर्थक वहां से नहीं गए तो स्थानीय मीडिया ने लोगों से इसका कारण पूछा। लोगों का जवाब सुनकर मीडियाकर्मी भी दंग रह गए। 

लोगों ने बताया कि करीब 2 साल पहले ग्राम डोंगरपुर में सरकारी जमीन पर रह रहे लगभग 600 परिवारों का आशियाना प्रशासन ने उजाड़ दिया था। हालांकि, प्रशासन ने सभी पीड़ित परिवारों को पट्टे यानी रहने के लिए जमीन दिलाने का आश्वासन दिया था। लेकिन अब तक उन्हें पट्टे नहीं मिले। बीजेपी नेता व पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल ने उन्हीं बेघर परिवारों के महिलाओं और पुरुषों को गाड़ियों में भर कर रैली में लाए। हैरानी की बात ये है कि सुबह 11 से लेकर रात सात बजे तक इन्हें नाश्ते तक के लिए नहीं पूछा गया। महिलाओं ने बताया कि पूरा दिन पैदल घूमने के बाद उन्हें सिर्फ एक पानी का पाउच दिया गया था।

यह भी पढ़ें: ग्वालियर में सिंधिया का भव्य स्वागत, रथ पर सवार हुए महाराज, कांग्रेस ने बताया गोबर गणेशों की यात्रा

टोल टैक्स दिए बिना निकला काफिला

सिंधिया के प्रवास से एक और घटना टोल टैक्स न भरने का सामने आया है। बताया जा रहा है कि करीब 300 चारपहिया वाहनों का काफिला लेकर ज्योतिरादित्य सिंधिया मुरैना से ग्वालियर के लिए निकले थे। यहां मुरैना टोल बैरियर पर एक भी गाड़ी नहीं रुकी, बल्कि सभी धड़ल्ले से पार हो गए। बताया जा रहा है कि डर के मारे टोल कर्मचारियों को कुछ बोलने की हिम्मत तक नहीं हुई। नियमानुसार इस टोल पर एक वाहन से एक तरफ का 70 रुपया टोल टैक्स वसूला जाता है। इस प्रकार तीन सैकड़ा वाहन का शुल्क 21 हजार रुपए बैठता है। 

ग्वालियर और मुरैना में सिंधिया समर्थक विधायकों ने उनके स्वागत में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। यहां सिंधिया पर क्विंटल के क्विंटल फूल बरसाए गए। बताया जा रहा है कि सिंधिया को खुश करने के लिए खासतौर पर इस रथ को इंदौर से बनवाकर लाया गया था। इस रथ को कई क्विंटल ताजा फूलों से सजाया गया था इसके बावजूद सिंधिया पर लगातार फूल फेंकने के काम में कई लोग लगाए गए थे। ग्वालियर के निरावली पॉइंट से आगे करीब आधा किलोमीटर सड़क पर गुलाब की पंखुड़ियां बिछाई गई थी जिसे देख महाराज फूले नहीं समा रहे थे।