इंदौर: अरबिंदो अस्पताल में ऑक्सीजन की भारी किल्लत, अस्पताल ने परिजनों से कहा, या तो मरीज़ को ले जाओ या ऑक्सीजन ले आओ

अरबिंदो अस्पताल ने अस्पताल परिसर के बाहर बोर्ड लगा दिया है, अस्पताल ने अब मरीजों को भर्ती करने से मना कर दिया है, अस्पताल में 18 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की ज़रूरत है लेकिन केवल 12 टन ऑक्सीजन ही अस्पताल को मिल रहा है

Updated: Apr 22, 2021, 11:00 AM IST

इंदौर: अरबिंदो अस्पताल में ऑक्सीजन की भारी किल्लत, अस्पताल ने परिजनों से कहा, या तो मरीज़ को ले जाओ या ऑक्सीजन ले आओ
Photo Courtesy: Naidunia

इंदौर। ऑक्सीजन की भारी किल्लत के कारण इंदौर के नामचीन अस्पताल अरबिंदो अस्पताल ने अपने हाथ खड़े कर दिए हैं। अरबिंदो अस्पताल ने परिजनों से कह दिया है कि या तो मरीज़ को ले जाओ या फिर ऑक्सीजन को ले आओ। अस्पताल ने अपने परिसर के बाहर अब मरीजों के लिए नो एंट्री का बोर्ड लगा दिया है। अरबिंदो शहर का सबसे बड़ा कोविड अस्पताल है। और उसी अस्पताल ने साफ कह दिया है कि वो अब आगे और मरीजों को भर्ती नहीं कर सकता। 

यह भी पढ़ें : मुंबई में डॉक्टर की कोरोना से मौत, एक दिन पहले फेसबुक पर लिखा था, क्या पता ये मेरा आखिरी गुड मॉर्निंग हो

बुधवार को अरबिंदो अस्पताल के बाहर मरीजों के परिजन अस्पताल के बाहर भटकते रहे। लेकिन अस्पताल ने ऑक्सीजन की कमी से मरीजों को भर्ती करने से मना कर दिया। कुछ ऐसी ही स्थिति इंदौर के तमाम छोटे अस्पतालों की बनी हुई है। अस्पताल और मरीज़ दोनों ही पिछले एक हफ्ते से असहाय बने हुए हैं। 

यह भी पढ़ें : कम्यूनिस्ट नेता सीताराम येचुरी के बेटे की कोरोना से मौत, येचुरी ने खुद ट्वीट किया शोक संदेश

एक हिंदी अख़बार की रिपोर्ट के मुताबिक अरबिंदो में कुल 1100 मरीज़ भर्ती हैं। अस्पताल में ऑक्सीजन की खपत 18 मीट्रिक टन है। लेकिन अस्पताल के पास केवल 12 टन ही ऑक्सीजन है। लिहाज़ा अस्पताल अब अन्य मरीजों को भर्ती करने में सक्षम नहीं है। जो भी मरीज़ अस्पताल में भर्ती हैं उनके लिए भी पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन उपलब्ध नहीं है। ऐसे में अगर अरबिंदो सहित तमाम अस्पतालों की यही स्थिति बनी रही तब आगामी दिनों में इंदौर के भीतर और भयावह नजारा देखने को मिल सकता है।