Imarti devi: अंडा पॉलिटिक्स में मंत्री इमरती देवी के विरोध में उतरा जैन समाज

Eggs Distribution in Aanganawadi Centres: मंत्री इमरती देवी ने कहा आंगनवाड़ी में बच्चों को देंगे अंडा, जैन समाज बोला संस्कार खराब करना चाहती हैं मंत्री

Updated: Sep 06, 2020 07:52 PM IST

Imarti devi: अंडा पॉलिटिक्स में मंत्री इमरती देवी के विरोध में उतरा जैन समाज

भोपाल। कांग्रेस की बागी नेता और शिवराज सरकार में महिला बाल विकास मंत्री इमरती देवी का बीजेपी के अंदर और बाहर विरोध शुरू हो गया है। आंगनवाड़ी केन्द्रों में अंडा वितरण के उनके फ़ैसले पर प्रदेश के जैन समाज ने इमरती देवी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। जैन समाज का कहना है कि इमरती देवी बच्चों को मांसाहार (अंडा) खिलाकर, उनका संस्कार खराब करना चाहती हैं। 

दरअसल मंत्री इमरती देवी प्रदेश के आंगनवाड़ी केन्द्रों पर बच्चों को अंडा खिलाने की योजना बना रही हैं। मंत्री का दावा है कि वो ऐसा प्रदेश में कुपोषण को रोकने के लिए कर रही हैं। मंत्री की इसी योजना पर बवाल मचा हुआ है। 

Click: MP Anganbadi: इमरती देवी के अंडा प्रेम में उलझे सिंधिया और सरकार

प्रदेश का जैन समाज इमरती देवी की इस योजना का जमकर विरोध कर रहा है। जैन समाज का कहना है कि शाकाहार से बच्चों में अच्छे संस्कार आते हैं, लेकिन इमरती देवी बच्चों को अंडा खिलाकर उनका संस्कार खराब करना चाहती हैं। जैन समाज का कहना है कि चूंकि आंगनवाड़ी में समाज के हर वर्ग के बच्चे पढ़ते हैं, लिहाज़ा मंत्री को इस बात का पूरा ख्याल रखना चाहिए। जैन समाज के प्रवक्ता ने कहा कि मंत्री को कोई भी योजना समाज के हर वर्ग के ख़ान पान को दृष्टिगत रखते हुए लागू करने की सोचनी चाहिए। ज्ञात हो कि जैन समाज में मांसाहार की छूट नहीं है। लिहाज़ा मंत्री की इस योजना के खिलाफ जैन समाज से ये आवाज़ें उठ रही हैं। 

मुझे फर्क नहीं पड़ता : इमरती देवी 
दूसरी तरफ जैन समाज के विरोध से पहले ही इमरती देवी की इस योजना के खिलाफ बीजेपी के अंदर ही बहुत बड़ा वर्ग अपनी नाराज़गी और असहमति जताते आ रहा है। लेकिन मंत्री इमरती देवी का कहना है कि कोई पार्टी के अंदर भी अगर उनकी योजना का विरोध करता है तो उन्हें फर्क नहीं पड़ता । 

इमरती देवी का दावा है कि आंगनवाड़ी केन्द्रों पर बच्चों को अंडा खिलाने से प्रदेश में कुपोषण खत्म करने में काफी मदद मिलेगी। हालांकि इमरती देवी ने यह भी कहा है कि अगर जो बच्चे अण्डा ग्रहण नहीं करते हैं, उन्हें फल दिया जाएगा।