सिंधिया की सभा में प्यास से मर गया किसान, परिजनों का आरोप

Farmer Death In Scindia’s Rally: मृतक जीवन सिंह के बेटे का आरोप, उनके पिता रैली में जाने से पहले बिलकुल स्वस्थ थे, पानी नहीं मिलने से हुई मौत

Updated: Oct 19, 2020, 01:00 PM IST

सिंधिया की सभा में प्यास से मर गया किसान, परिजनों का आरोप

भोपाल/खंडवा। बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के चुनावी भाषण के दौरान बुज़ुर्ग किसान जीवन सिंह की मौत के विवाद ने अब एक नया मोड़ ले लिया है। मृतक किसान के परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि जीवन सिंह की मौत उन्हें पीने का पानी नहीं मिलने की वजह से हुई है। ये आरोप मृतक के परिवार वालों ने एक वीडियो में लगाया है, जिसे मध्य प्रदेश कांग्रेस ने अपने ट्विटर हैंडल से शेयर किया है।

कांग्रेस ने मृतक जीवन सिंह के परिजनों से हुई बातचीत का वीडियो शेयर करते हुए लिखा है, “मृतक किसान के परिजनों का खुलासा, पानी के अभाव में हुई किसान जीवन सिंह की मौत; कल बीजेपी की मांधाता की सभा में मरने वाले किसान के बेटे ने बताया कि उनके पिता स्वस्थ्य थे, बीजेपी की गाड़ी उन्हे घर से ले गई थी एवं पानी नहीं मिलने से उनकी मौत हुई है। शिवराज जी, कब तक मौन रहोगे..?”

इस वीडियो में मृतक किसान के परिवार वाले बता रहे हैं कि जीवन सिंह सिंधिया की सभा में जाने से पहले बिलकुल ठीक थे। मृतक के बेटे का कहना है कि उसके पिता को बीजेपी की गाड़ी सिंधिया की सभा के लिए ले गई। घर से जाने के बाद उन्हें पीने का पानी नहीं मिला, जिसके कारण उनकी मौत हो गई। अगर ये बात सच है तो यह वाक़ई बेहद गंभीर मामला है। ऐसी जनसभाओं में पीने के पानी से लेकर इलाज की आपातकालीन सुविधाओं तक का इंतज़ाम करना न सिर्फ़ आयोजकों, बल्कि स्थानीय प्रशासन की भी ज़िम्मेदारी होती है। ऐसे में सवाल यह है कि मांधाता की जिस चुनावी सभा में जीवन सिंह शामिल होने गए थे, वहाँ पीने के पानी का इंतज़ाम क्यों नहीं था?

आपको बता दें कि जीवन सिंह की मौत मांधाता में बीजेपी उम्मीदवार नारायण पटेल के समर्थन में आयोजित ज्योतिरादित्य सिंधिया की चुनावी सभा के दौरान हुई थी। सिंधिया यह रैली मांधाता विधानसभा सीट के इलाक़े में आने वाले मूंदी में कर रहे थे। 70 साल के किसान जीवन सिंह भी उसी सभा में कुर्सी पर बैठकर सिंधिया का भाषण सुन रहे थे। अचानक जीवन सिंह को हार्ट अटैक आया और उनकी मौत हो गई।

आरोप है कि जीवन सिंह की सभा के पंडाल में ही अचानक मौत हो गई, फिर भी सिंधिया ने अपना भाषण बंद नहीं किया। किसान की अचानक मृत्यु पर सिंधिया सिर्फ एक मिनट के मौन के लिए रुके और फिर अपना भाषण दोबारा शुरू कर दिया।

यह भी पढ़ें: ये सिंधिया का भाषण है, किसान की मौत से थोड़े ही बंद होगा

पूरे घटनाक्रम का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें एक व्यक्ति मृतक जीवन सिंह के पार्थिव शरीर को कपड़े से ढकता नज़र आ रहा है। लेकिन दूसरी ओर वीडियो में सिंधिया कमल नाथ के ऊपर गरजते सुनाई दे रहे हैं। इस असंवेदनशीलता के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया की पहले से ही काफ़ी आलोचना हो रही थी। अब जीवन सिंह को पानी नहीं मिल पाने की ख़बर से पूरे विवाद ने एक नया मोड़ ले लिया है।