MP by Elections: सुमावली में कमलनाथ ने कहा, चंबल के माफिया पर कार्रवाई से डरे कंसाना

Kamal Nath: मुख्यमंत्री शिवराज पर इशारों में कसा तंज कहा, मेरा नाम कभी ईटेंडर, डंफर और व्यापम से नहीं जुड़ा

Updated: Oct 14, 2020, 11:08 PM IST

MP by Elections: सुमावली में कमलनाथ ने कहा, चंबल के माफिया पर कार्रवाई से डरे कंसाना
Photo Courtesy: naidunia

मुरैना। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने सुमावली में चुनावी सभा को संबोधित किया। उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी अजब सिंह कुशवाहा को भारी मतों से जिताने की अपील की। इस दौरान उन्होंने बीजेपी पर जमकर हमला बोला। उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, ज्योतिरादित्य सिंधिया और बीजेपी प्रत्याशी एंदल सिंह कंसाना पर कई आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि एंदल सिंह कंसाना को पता था कि सरकार द्वारा माफिया के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान में चंबल के सबसे बड़े माफिया पर कार्रवाई से उन्हें कोई बचा नहीं सकता। इसलिए उन्होंने बीजेपी में शामिल होने में भलाई समझी और सरकार गिरवा दी। 

‘मेरा राजनीतिक जीवन बेदाग है’

कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज पर हमला बोलते हुए कहा कि उनका राजनीतिक जीवन बेदाग है, उनपर किसी घोटाले का कोई आरोप नहीं है। मेरा नाम ना कभी डंपर घोटाले से जुड़ा, ना व्यापम घोटाले से जुड़ा और ना किसी ई-टेंडर घोटाले से जुड़ा।

सार्वजनिक मंच से माफी मांगें मुख्यमंत्री शिवराज

खुद पर लगे झूठे आरोपों को लेकर कमलनाथ ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि वे उनसे सार्वजनिक मंच पर आकर माफी मांगें। उन्होंने कहा कि उनके राजनीतिक जीवन में कभी किसी तरह का कोई आरोप नहीं लगा है। सीएम शिवराज उन पर झूठे आरोप लगा रहे हैं। सत्ता से बाहर होकर शिवराज सिंह की झूठ बोलने की आदत नहीं बदली है। प्रदेश की जनता ने सच और झूठ का अंतर जान लिया है। इससे पहले मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर आरोप लगाया था कि उन्होंने बीजेपी की योजनाओं को बंद कर दिया और बेटियों के पैसों को भी दबा लिया।

कमलनाथ किसी के दबाव में आने वाला नहीं

ज्योतिरादित्य सिंधिया पर वार करते हुए कमलनाथ ने कहा कि जनता को गुलाम समझने वाले महाराजाओं से लोगों ने आजादी पा ली है। अब प्रदेश के माफिया से आजादी पाने का वक्त आ गया है। अपने कार्यकाल का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस के माफियाओं के विरुद्ध अभियान में बीजेपी प्रत्याशी का नाम आने वाला था, लेकिन उन्हें पता था कि कमलनाथ किसी से डरने वाले नहीं हैं, उन्हें कोई दबा नहीं सकता इसीलिए इन जैसे लोगों ने बीजेपी के साथ सरकार गिराने का सौदा कर लिया। बीजेपी प्रत्याशी एदल सिंह कंसाना की गुलामी से छुटकारा लेना है।