छिंदवाड़ा: अलर्ट के बावजूद सोता रहा प्रशासन, बारिश में भीगा मंडी में रखा हजारों क्विंटल अनाज

छिंदवाड़ा के कृषि उपज मंडियों में रखे थे हजारों क्विंटल अनाज, प्रशासनिक लापरवाही के कारण बारिश में भीगा, लाखों रुपए के नुकसान की आशंका

Updated: Nov 24, 2021, 10:03 AM IST

छिंदवाड़ा: अलर्ट के बावजूद सोता रहा प्रशासन, बारिश में भीगा मंडी में रखा हजारों क्विंटल अनाज

छिंदवाड़ा। मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में प्रशासनिक लापरवाही की वजह से हजारों क्विंटल अनाज बर्बाद होने का मामला सामने आया है। यहां मौसम विभाग द्वारा जारी अलर्ट होने के बावजूद प्रशासनिक अधिकारियों का नींद नहीं खुला। ऐसे में कृषि उपज मंडी के बाहर रखा अनाज बारिश में भीग गया।

मंडी प्रबंधन की लापरवाही की पोल खोलने वाली तस्वीरें कृषि उपज मंडी कुसमेली और कृषि उपज मंडी चांद से आई है। बताया जा रहा है कि लगातार मौसम के बदलाव को देखते हुए 2 दिन पहले ही मौसम विभाग ने बारिश का अलर्ट जारी किया था। बावजूद मंडियों परिसर में रखे अनाज को न ढंकने की अलग से व्यवस्था हुई न उन्हें शेड में रखा गया। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक बीते रविवार हुई मूसलाधार बारिश में सारा अनाज भीग गया जिससे लाखों रुपए के नुकसान की आशंका है। सोशल मीडिया पर अनाज भीगने का वीडियो भी तेजी से वायरल हो रहा है। मंडी परिसर रखा हुआ कुछ अनाज किसानों का है जबकि कुछ अनाज मंडी प्रबंधन के द्वारा खरीदा हुआ है। समय रहते अनाज को शेड में रखने की व्यवस्था न करना मंडी प्रबंधन की लापरवाही को दर्शा रहा है।

यह भी पढ़ें: दिग्विजय सिंह के साथ रामेश्वर शर्मा के निवास पर रामधुन करेंगे कांग्रेस नेता, शर्मा ने घुटने तोड़ने की दी थी धमकी

बताया जा रहा है कि कुसमेली मंडी में शेड के नीचे व्यापारियों  का अनाज रखा हुआ है। इसी वजह से किसानों को खुले में ही अनाज के ढेर लगाने पड़ रहे हैं। मंडी सचिव ने व्यापारियों को शेड से अनाज उठाने का नोटिस भी जारी किया है लेकिन व्यापारियों ने शेड से अनाज नहीं उठाया। ऐसे में मंडी में अपनी उपज बेचने आ रहे किसान खुले में अपना अनाज रखने को मजबूर हैं।