एमपी में फिर नाम बदलने की सियासत, हलाली डैम का नाम बदलना चाहती हैं उमा भारती

पूर्व सीएम उमा भारती ने बैरसिया विधायक विष्णु खत्री को लिखा पत्र, कहा- यह डैम राजा मोहम्मद खान की याद दिलाता है

Updated: Jan 25, 2021, 10:37 PM IST

एमपी में फिर नाम बदलने की सियासत, हलाली डैम का नाम बदलना चाहती हैं उमा भारती
Photo Courtesy : YouTube

भोपाल। मध्यप्रदेश में एक बार फिर से नाम बदलने की सियासत तेज होने लगी है। राज्य की पूर्व सीएम उमा भारती ने भोपाल के बैरसिया विधानसभा क्षेत्र में स्थित प्राचीन हलाली डैम का नाम बदलने की मांग की है। उमा भारती ने इस संबंध में बैरसिया से बीजेपी विधायक विष्णु खत्री को पत्र लिखकर संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर से बात करने को कहा है। उन्होंने कहा है कि हलाली डैम राजा मोहम्मद खान की याद दिलाता है।

खत्री को संबोधित पत्र ने उमा भारती ने लिखा, 'भोपाल शहर के बाहर प्रचलित हलाली नाम का स्थान एवं नदी विश्वासघात की उस कहानी की याद दिलाते हैं, जिसमें दोस्त मोहम्मद खां ने भोपाल के आसपास के अपने मित्र राजाओं को बुलाकर उन्हें धोखा देकर उनका सामूहिक कत्ल किया तथा उनके कत्ल से नदी लाल हो गई थी। हलाली शब्द, हलाली स्थान उसी प्रसंग का स्मरण कराता है। विश्वासघात, धोखाधड़ी, अमानवीयता यह सब एक साथ हलाली शब्द के साथ आते हैं तो हलाली का इतिहास जानने वालों के अंदर घृणा का संचार होता है।' 

बीजेपी नेता ने आगे लिखा है, 'मैंने सुना है कि उसको एक पर्यटन केंद्र बनाया जा रहा है क्योंकि वहां डैम है, नदी है। यह एक बहुत अच्छी बात है किंतु आप तुरंत संस्कृति एवं पर्यटन विभाग से संपर्क करके घृणा एवं जुगुत्सा पैदा करने वाले इस नाम का उल्लेख बंद करवा दीजिए। आप इस संबंध में पर्यटन मंत्री सुश्री उषा ठाकुर जी से मिलकर भी बात कर सकते हैं। मैं भी इस पत्र की एक कॉपी उनको भेज रही हूं।' उमा भारती ने यह पत्र भोपाल की सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर को भी भेजा है। 

यह भी पढ़ें: नाम शिवमंगल सिंह सुमन का, तस्वीर हरिवंश राय बच्चन की, आख़िर संस्कृति विभाग में हो क्या रहा है

यह पहली बार नहीं है जब मध्य प्रदेश बीजेपी के नेताओं ने नाम को लेकर विवाद खड़ा किया है। इससे पहले बीजेपी ने भोपाल के हबीबगंज स्टेशन और ईदगाह हिल्स का नाम बदलने की वकालत की थी। बीजेपी नेता प्रभात झा ने केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर हबीबगंज रेलवे स्टेशन का नाम बदलने को कहा था। उन्होंने मांग की थी कि इसे बदलकर पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर अटल जंक्शन कर दिया जाए।  मध्य प्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने ईदगाह हिल्स का नाम बदलकर गुरुनानक टेकरी करने की मांग की थी।