क्रूर समाज का खौफनाक चेहरा! MP में युवतियों के साथ बर्बरता, लाठी-डंडों और लात-घूंसों से अधमरा किया

अलीराजपुर के बाद अब धार में युवतियों के साथ बर्बरता, रहम की भीख मांगती रही युवतियां, किसी का दिल नहीं पसीजा, वीडियो बनाते रहे लोग, चचेरे भाइयों ने किया जनवरों से भी बुरा सलूक

Updated: Jul 04, 2021, 11:45 AM IST

क्रूर समाज का खौफनाक चेहरा! MP में युवतियों के साथ बर्बरता, लाठी-डंडों और लात-घूंसों से अधमरा किया

धार। मध्यप्रदेश के अलीराजपुर में महिला को पेड़ से लटकाकर पीटने का मामला सभी शांत भी नहीं हुआ कि धार जिले से क्रूर समाज का खौंफनाक चेहरा सामने आया है। यहां दो युवतियों के साथ उनके चचेरे भाईयों ने जानवरों से बुरा सलूक किया। युवतियों को लाठी-डंडों और लात-घूसों से घंटों पीटा गया। इस दौरान युवतियां रहम की भीख मांगती रहीं लेकिन किसी का दिल नहीं पिघला। हद तो तब हो गई जब लोग उन्हें बचाने के बजाए उनका वीडियो बनाते रहे।

मध्यप्रदेश कांग्रेस ने इस घटना को लेकर सीएम शिवराज और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को निशाने पर लिया है। एमपी कांग्रेस ने वीडियो साझा कर ट्वीट किया, 'मध्यप्रदेश फिर हुआ शर्मसार, —अब धार ज़िले से आया बर्बरता का वीडियो। शिवराज जी, कब शर्म और लज्जा आयेगी ? —आपके राज में बेटियों पर रोज हमले हो रहे हैं, और बाइटवीर गृहमंत्री बयानबाज़ी कर टाइमपास कर रहे हैं। “शवराज का जंगलराज” 

मामला धार जिले के टांडा थाना एरिया अंतर्गत पीपलवा गांव का है। घटना 22 जून की है। बताया जा रहा है कि बर्बरता की शिकार दोनों युवतियां रिश्ते में चचेरी बहनें हैं। दोनों बहनों का रिश्ता आलीराजपुर के जोबट में तय हुआ है। लड़कियों की कसूर सिर्फ इतनी थी कि वह अपने मामा के परिवार के दो लड़कों से बात करती थीं। इसी बात को लेकर उनके भाइयों ने गांव में जुलूस निकालकर बर्बरता की सारी हदें पार कर दी।

इस घटना का सबसे शर्मनाक पहलू ये है कि जब युवतियों पर लाठी-डंडे, लात-घूंसे और भारी पत्थर बरसाए जा रहे थे, शरीर में जगह-जगह से रक्तस्राव हो रहा था, वे अधमरी हो गईं थीं, तब वे रहम की भीख मांग रहीं थीं, लेकिब वहां मौजूद करीब 50 लोगों में से किसी का कलेजा नहीं पिघला। वे इसका वीडियो बनाते रहे और इसे गांव में मिशाल की तरह पेश किया गया कि लड़कियां यदि अपनी मर्जी से किसी से बात करेंगी तो उनका हश्र ये होगा।

यह भी पढ़ें: CM बोले- कोरोना काल में सात रातों तक जगा रहा, पीड़ित परिजनों का फूटा गुस्सा, बोले- आप बंगाल चुनाव में व्यस्त थे

इस घटना के बाद लड़कियां बुरी तरह से घायल हो गयीं, लेकिन इलाज तो दूर उनके खुद की मां तक जख्मी घावों पर मरहम लगाने के लिए आगे नहीं आईं। इस बर्बर सलूक के बाद युवतियां इतनी डरी हुई थीं कि वह पुलिस में शिकायत करने की भी हिम्मत नहीं जुटा पाईं। शनिवार को इसका वीडियो वायरल हुआ तो पुलिस उन्हें ढूंढते हुए गांव पहुंची लेकिन लड़कियां कुछ बता तक नहीं पाईं, बाद में लड़कियों को जब थाने लाया गया तो उन्होंने सारी आपबीती सुनाई। स्थानीय थाना टांडा के थाना इंचार्ज विजय वास्कले ने बताया है कि पूछताछ के बाद युवतियों के परिवार के 7 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।