CM बोले- कोरोना काल में सात रातों तक जगा रहा, पीड़ित परिजनों का फूटा गुस्सा, बोले- आप बंगाल चुनाव में व्यस्त थे

सीएम शिवराज ने इंदौर के एक कार्यक्रम में कहा कि ऑक्सीजन संकट के दौरान वे लगातार सात रातों तक जगे रहे, ट्विटर यूजर्स बोले- हम अप्रैल से अब तक नहीं सो पाए हैं

Updated: Jul 05, 2021, 10:07 PM IST

CM बोले- कोरोना काल में सात रातों तक जगा रहा, पीड़ित परिजनों का फूटा गुस्सा, बोले- आप बंगाल चुनाव में व्यस्त थे
Photo Courtesy: Twitter

इंदौर। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान उस दौर को याद कर रूह कांप उठता है जब सांसें न मिलने के कारण मध्यप्रदेश में दर्जनों लोगों की मौत हो रही थी। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उस दौर को याद करते हुए कहा है कि वे लगातार सात रातों तक जगे हुए थे। सीएम के इस बयान पर लोगों ने हैरानी जताई है। ट्विटर यूजर्स ने इसपर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि आप तो बंगाल चुनाव में व्यस्त थे।

दरअसल, सीएम शिवराज शनिवार को इंदौर में कोरोना समीक्षा करने पहुंचे थे। यहां उन्होंने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, 'मुझे आज ये उजागर करने में कोई संकोच नहीं है कि (कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान) मेडिकल ऑक्सीजन के किल्लत के समय मैं सात रातों तक अपनी पलक तक नहीं झपका सका था। उस समय लगातार खबरें आती थीं कि फलां अस्पताल में महज आधे घंटे की ऑक्सीजन बची है। हमारी सरकार ने तमाम कोशिशों के जरिये ऑक्सीजन का इंतजाम किया।'

यह भी पढ़ें: कोरोना समीक्षा बैठक में स्थानीय विधायक की नो एंट्री, पटवारी बोले- लोकतंत्र का अपमान कर रहे शिवराज

इतना ही नहीं सीएम शिवराज ने तो यहां तक दावा किया कि संकट के समय में वे ऑक्सीजन टैंकर के ड्राइवर तक को फोन कर पूछते थे कि वे कहां तक पहुंचे। सीएम के इस दावे पर कुछ ट्विटर यूजर्स ने हैरानी जताई है तो पीड़ित परिजनों को गुस्सा फूट पड़ा है। इसपर प्रतिक्रिया देते हुए @unmute_himanshu नाम के ट्विटर यूजर ने कहा, 'मुख्यमंत्री झूठ बोल रहे हैं, मध्यप्रदेश जब सांसों के संकट से जूझ रहा था तब वे बंगाल चुनाव में व्यस्त थे। 

ट्विटर यूजर @nishadev_1 ने कहा कि, 'सीएम शिवराज आप महज सात दिन नहीं सो सके। हम अप्रैल 2021 से अबतक नहीं सो पा रहे हैं।' @luminous_leo ने कहा, 'लेकिन BJP और केंद्र सरकार तो कह रही थी कि ऑक्सीजन की कहीं कमी ही नहीं है।' एक अन्य ट्विटर यूजर ने भी कहा है कि आप तो कह रहे थे ऑक्सीजन की कमी नहीं है, फिर जागने की जरूरत क्यों पड़ी? शायद आप खुली आँखों से सो रहे थे।'