देखिए एमपी के क्रूर चेहरे, रीवा में चोरी के शक में भीड़ ने की बेल्ट से पिटाई, 2 की हुई गिरफ्तारी

रीवा के सिविल लाइन थाना क्षेत्र ट्रांसपोर्ट नगर का मामला, चोरी के शक में भीड़ ने बेरहमी से पीटा, वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने की कार्रवाई

Updated: Aug 29, 2021, 12:18 PM IST

देखिए एमपी के क्रूर चेहरे, रीवा में चोरी के शक में भीड़ ने की बेल्ट से पिटाई, 2 की हुई गिरफ्तारी

रीवा।  मध्य प्रदेश में क्रूरता और बर्बरता के इंतेहां की एक के बाद एक आ रही खबरों ने पूरे देश को झकझोरकर रख दिया है। कानून के रखवाले तब जागते हैं जब कानून तोड़नेवाले अपना आतंक फैला जाते हैं। इंदौर, नीमच के अलावा ऐसा ही कुछ मामला रीवा और उज्जैन में भी देखने को मिला है। रीवा में भीड़ ने एक शख्स को चोरी के शक में जानवरों की तरह पीट दिया। हालांकि वीडियो के वायरल होने के बाद रीवा पुलिस हरकत में आई और दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। 

वायरल वीडियो रीवा के सिविल लाइन थाना क्षेत्र के ट्रांसपोर्ट नगर का बताया जा रहा है। जहां अरशद नाम के एक व्यक्ति को चोरी के शक में लोगों का एक समूह बेरहमी से पीटता रहा। पीड़ित व्यक्ति को सड़क पर गिराकर बेरहमी से बेल्ट और लातों से पीटा जा रहा है। इस दौरान पीड़ित व्यक्ति को दर्द से बिलखते देखा जा सकता है, मगर वहां मौजूद लोग खड़े होकर तमाशा देख रहे हैं।

चोरी के शक में पिटाई का यह वीडियो वायरल हो गया है। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने युवक के खिलाफ हुई बर्बरता को तालिबानी संस्कृति करार दिया है। दिग्विजय सिंह ने वीडियो को साझा करते हुए कहा है कि यह घटना रीवा की है। क्या यह तालिबानी संस्कृति नहीं है?

दूसरी तरफ पुलिस भी वीडियो के वायरल होने के बाद हरकत में आ गई है। पुलिस ने चार लोगों के खिलाफ हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर लिया है। इस मामले में दो आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आ गए हैं, जबकि दो आरोपियों की तलाश जारी है। रीवा पुलिस ने ट्वीट करते हुे लिखा है कि उसने स्वत: संज्ञान लेते हुए दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। 

यह भी पढ़ें : चोरी के शक में भील समुदाय के व्यक्ति को ट्रक से बांधकर घसीटा, अस्पताल में हुई व्यक्ति की मौत

रीवा के साथ साथ शनिवार को नीमच के सिंगोली थाना क्षेत्र में भी भीड़ की बर्बरता का मामला सामने आया था। जहां भीड़ ने चोरी के शक में भील समुदाय से आने वाले व्यक्ति की बेरहमी से पीट पीट कर हत्या कर दी थी।