सिंधिया पर तोमर का पलड़ा भारी, ग्वालियर से सुमन शर्मा को बीजेपी ने बनाया महापौर प्रत्याशी

मध्य प्रदेश बीजेपी ने ग्वालियर से महापौर के लिए सुमन शर्मा के नाम का ऐलान कर दिया है, ज्योतिरादित्य सिंधिया माया सिंह को टिकट दिलाने के जद्दोजहद में थे

Updated: Jun 15, 2022, 07:35 PM IST

सिंधिया पर तोमर का पलड़ा भारी, ग्वालियर से सुमन शर्मा को बीजेपी ने बनाया महापौर प्रत्याशी

भोपाल। हफ्तेभर चली जद्दोजहद और मान मनौव्वल के बीच बीजेपी ने ग्वालियर से महापौर पद के लिए सुमन शर्मा को अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया है। इसी के साथ यह भी स्पष्ट हो चुका है कि कांग्रेस से पाला बदलकर आए सिंधिया के मुकाबले नरेंद्र सिंह तोमर का पलड़ा बीजेपी में भारी है। 

दरअसल, ग्वालियर में प्रत्याशी चयन को लेकर भोपाल से लेकर दिल्ली तक पिछले एक हफ्ते से मैराथन मीटिंग्स चल रही थी। ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने समर्थक माया सिंह को टिकट दिलाने के लिए अड़े हुए थे। टिकट के लिए सिंधिया कभी दिल्ली जाते, कभी भोपाल में बैठक करते तो कभी ग्वालियर जाते। लेकिन ग्वालियर से लेकर भोपाल और दिल्ली तक जूते घिसने के बावजूद उन्हें निराशा हाथ लगी है। 

बीजेपी ने बुधवार को आखिरकार केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की पसंदीदा उम्मीदवार सुमन शर्मा को टिकट देने का ऐलान कर दिया है। इस ऐलान के साथ ही तोमर खेमे में खुशी की लहर है, वहीं सिंधिया समर्थक भड़के हुए हैं। बताया जा रहा है कि सिंधिया भी टिकट चयन में अपनी उपेक्षा से हतोत्साहित हैं।

यह भी पढ़ें: दिल्ली पुलिस की बर्बरता: कांग्रेस मुख्यालय में घुसकर की मारपीट, महिला नेत्रियों को सड़कों पर घसीटा

बता दें कि ग्वालियर का पेंच सिंधिया और तोमर में चल रहे खींचतान के कारण अब तक फंसा हुआ था। सिंधिया किसी भी कीमत पर मानने को तैयार नहीं थे। वह सीएम हाउस जाकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से कह चुके थे कि ग्वालियर में उनके कैंडिडेट को ही टिकट मिलनी चाहिए। लेकिन तोमर के दबाव के बीच संगठन ने निर्णय लिया कि बाहर से आए नेताओं के बजाए अपने पुराने नेताओं को तवज्जो दी जानी चाहिए।

बता दें कि कांग्रेस में रहते हुए सिंधिया पूरे ग्वालियर चंबल संभाग में अपने हिसाब से उम्मीदवार उतारते थे। लेकिन अब बीजेपी में उनकी एक नहीं चल रही है। उपचुनाव के बाद यह पहला चुनाव था। ऐसे में अपनी छवि को लेकर सख्त रहने वाले सिंधिया चाहते थे कि कम से कम ग्वालियर शहर का महापौर उनके पसंद का हो। हालांकि, वे अपने प्रयासों में सफल नहीं हो सके।