बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने घर में घुसकर लड़कियों को पीटा, सेक्स रैकेट चलाने का लगाया झूठा आरोप

पीड़िता के मुताबिक उसका दोस्त उसे घर तक छोड़ने आया था, इतने में बजरंग दल के कार्यकर्ता घर में घुसकर मारपीट करने लगे, उन्होंने एक लाख रुपए की डिमांड की, रुपए नहीं देने पर सेक्स रैकेट चलाने का आरोप लगाकर थाने भेज दिया

Updated: Jul 26, 2021, 11:40 PM IST

बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने घर में घुसकर लड़कियों को पीटा, सेक्स रैकेट चलाने का लगाया झूठा आरोप

जबलपुर। मध्य प्रदेश के जबलपुर में दो युवतियों के साथ बजरंगदल कार्यकर्ताओं द्वारा मारपीट किए जाने का मामला सामने आया है। युवतियों के साथ मारपीट और दुर्व्यवहार इसलिए किया गया क्योंकि वे अपने पुरुष दोस्त के साथ कमरे में बैठे थे। इतना ही नहीं पीड़ित युवतियों ने बताया है कि आरोपी उनसे एक लाख रुपए मांगने लगे, और नहीं देने पर पुलिस में सेक्स रैकेट चलाने की शिकायत दर्ज कर दी। हद्द तो तब हो गई जब पुलिस ने कोई सबूत न मिलने के बावजूद पीड़ित लड़कियों को गिरफ्तार कर लिया ताकि इलाके का माहौल खराब न हो।

मामला जबलपुर के अंजनी विहार इलाके के शुक्ला नगर कॉलोनी का है। बताया जा रहा है कि यहां दो युवतियां किराए से कमरा लेकर रहती थी। स्थानीय लोगों के मुताबिक लड़कियों के पास लड़के आते थे, इसलिए उन्होंने बजरंग दल के लोगों को फोन किया। इसके बाद रविवार देर शाम जब युवतियां अपने किसी दोस्त के साथ घर आई तो 15-20 की संख्या में बजरंग दल के कार्यकर्ता 'जय श्री राम' का नारा लगाते हुए पहुंचे।

यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्री के सोशल मीडिया पोस्ट के समान नहीं है प्रशासनिक आदेश, एमपी हाई कोर्ट की टिप्पणी

पीड़िता ने इस बारे में बताया है कि, 'मेरे साथ एक दोस्त आया था जिससे बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने 30-35 हजार गूगल पे के माध्यम से लिया और मुझसे करीब 21 हजार रुपए छीन लिए। इसके बाद बजरंग दल वालों ने 1 लाख रुपए का डिमांड रखा। लेकिन जब उन्हें ज्ञात हुआ की हमारे पास पैसे नहीं है, तो पुलिस को बुलाकर सेक्स रैकेट चलाने की शिकायत की और हमें थाने लाया गया।'

हैरानी की बात ये है कि बिना किसी साक्ष्य और सबूत के पुलिस ने युवतियों को गिरफ्तार कर लिया। मदन महल थाने के टीआई नीरज वर्मा ने खुद स्वीकार किया है कि युवतियों के खिलाफ झूठे आरोप लगाए गए थे। गिरफ्तारी के पीछे पुलिस का तर्क ये है कि बजरंग दल के लोग हंगामा कर रहे थे, ऐसे में माहौल खराब न हो इसलिए युवतियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया गया। 

इस पूरे घटनाक्रम को लेकर हम समवेत ने जब टीआई नीरज वर्मा को कॉल किया तो उन्होंने बताया कि दरअसल युवतियों से मकान खाली करवाना था। मकान खाली करवाने के लिए ही उनके खिलाफ झूठे आरोप लगाए गए। हालांकि गिरफ्तारी को लेकर पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि उस वक़्त परिस्थितियों के हिसाब से कार्रवाई की गई थी और आज युवतियों को एसडीएम के सामने पेश किया गया था। फिलहाल उन्होंने इस बात की जानकारी न होने की बात कही की युवतियों को छोड़ा गया या अभी भी उन्हें थाने में ही रखा गया। 

यह भी पढ़ें: CM के सामने आदिवासी महिला ने खोली राशन घोटाले की पोल, आधा अनाज डकार गए माफिया

समाज को बर्बाद कर रही RSS और बजरंग दल की घृणित सोच- कांग्रेस

मामले पर कांग्रेस ने कहा है कि आरएसएस और बजरंगदल जैसे घृणित सोच रखने वाले संगठनों की वजह से समाज का माहौल खराब हो रहा है। मध्य प्रदेश यूथ कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष विवेक त्रिपाठी ने कहा, 'बजरंग दल का सोच महिला विरोधी रहा है। ये वैलेंटाइन डे से लेकर अन्य दिनों में भी महिला को पुरुष के साथ घूमते-फिरते देख दुर्व्यवहार करने लगते हैं। यह संकीर्ण सोच महिलाओं की आजादी के खिलाफ है। नवरात्र पर ये ढोंगी लोग कन्याओं की पूजा करते हैं और पूरे साल उन्हीं महिलाओं का चरित्रहनन करने में जुट जाते हैं।'