कांग्रेस के प्रदर्शन पर लाठीचार्ज के बाद बोले विक्रांत भूरिया, हम लाठी-डंडों से डरने वाले नहीं

विक्रांत भूरिया ने कहा, भोपाल में किसानों के समर्थन में किए जा रहे कांग्रेस के शांतिपूर्ण प्रदर्शन पर लाठीचार्ज ने अंग्रेज़ी राज में होने वाले दमन की याद दिलाई

Updated: Jan 23, 2021, 06:44 PM IST

कांग्रेस के प्रदर्शन पर लाठीचार्ज के बाद बोले विक्रांत भूरिया, हम लाठी-डंडों से डरने वाले नहीं
Photo Courtesy : Twitter

भोपाल। किसानों के समर्थन में कांग्रेस के शांतिपूर्ण प्रदर्शन पर पुलिस के लाठीचार्ज की मध्य प्रदेश यूथ कांग्रेस अध्यक्ष विक्रांत भूरिया ने कड़ी निंदा की है। भूरिया ने इस पुलिसिया कार्रवाई की तुलना अंग्रेजी राज में होने वाले दमन से करते हुए शिवराज सरकार पर तीखा हमला किया है। कांग्रेस के शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन के दौरान की गई पुलिस की इस बर्बरता में कांग्रेस के कई कार्यकर्ता गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। जिनमें ज्यादा संख्या युवा कांग्रेस और एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं की है।

इस लाठीचार्ज के दौरान घायल हुए यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष डॉ विक्रांत भूरिया ने सीएम शिवराज और केंद्र की सरकार को चेतावनी दी है। भूरिया ने कहा है कि जबतक तोड़ेंगे नहीं, तबतक छोड़ेंगे नहीं। भूरिया ने बीजेपी सरकार को ललकारा है कि यूथ कांग्रेस का कार्यकर्ता लाठी-डंडों से डरने वाला नहीं है। उन्होंने कहा, 'बीजेपी सरकार चाहे लाठी चलाए, चाहे गोली मारे या फिर बम फेंके हम नहीं हटेंगे। हम देश के अन्नदाताओं के लिए तबतक लड़ते रहेंगे जबतक ये तीनों काले कानून वापस नहीं लिए जाते।' 

बर्बरता ने दिलाई अंग्रेजी हुकूमत की याद

भोपाल पुलिस की बर्बरतापूर्ण रवैए को लेकर विक्रांत भूरिया ने कहा है कि आज शिवराज सरकार ने हमें अंग्रेजी शासन के दौरान लोगों पर किए जाने वाले दमन की याद दिलाई है। उन्होंने ट्वीट किया, 'शिवराज की तानाशाही ने ब्रिटिश राज की याद दिलाई। भोपाल में शांतिपूर्ण प्रदर्शन पर शिवराज का लाठीचार्ज, अश्रुगैस और वाटर कैनन का उपयोग करना ग़ुलामी काल में अंग्रेजों द्वारा किये दमन की याद दिलाता है। यह लोकतांत्रिक मूल्यों की हत्या है। दमनकारी नीतियों से ना डरे है ना डरेंगे लड़े है और लड़ेंगे। शिवराज जी, आपकी उल्टी गिनती शुरू है।' 

 

कार्यकर्ता की कटी उंगली, भूरिया ने दिलाया हौसला

बता दें कि प्रदर्शन के दौरान हुए लाठीचार्ज में यूथ कांग्रेस के दर्जनों कार्यकर्ताओं को गंभीर चोटें आई हैं। वहीं एक कार्यकर्ता दिनेश राजपूत की उंगली कट गई। गिरफ्तारी से छूटने के बाद प्रदेश अध्यक्ष विक्रांत भूरिया तत्काल अस्पताल पहुंचे व कार्यकर्ताओं का हौसला बढाया। उन्होंने युवा साथी दिनेश राजपूत के परिजनों को धीरज रखने को कहा। 

 

गौरतलब है कि आंदोलनकारी भीड़ को खदेड़ने के मकसद से पुलिस द्वारा किए गए बलप्रयोग के दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ-साथ कई किसानों, महिलाओं और मीडियाकर्मियों को भी चोटें आई है। कांग्रेस विधायक सज्जन सिंह वर्मा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके इस मसले को उठाया है। उन्होंने सरकार से पूछा है कि हम पर लाठियां बरसाईं, उंगलियों को काट डाला, लेकिन मीडिया के साथियों को क्यों मारा गया? उन्होंने कहा कि मीडिया को भी इस संघर्ष में किसानों का साथ देना चाहिए।