इंदौर के गरबा पंडाल में घुसे मुस्लिम युवक, बजरंग दल की आपत्ति पर पुलिस ने किया गिरफ्तार

बजरंग दल का दावा है कि पांच मुस्लिम युवक पहचान छिपाकर गरबा पंडाल में घुसे थे, पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया, प्रदेश के गरबा पंडालों में गैर हिंदुओं की एंट्री पर रोक लगी हुई है

Updated: Sep 29, 2022, 11:47 AM IST

इंदौर के गरबा पंडाल में घुसे मुस्लिम युवक, बजरंग दल की आपत्ति पर पुलिस ने किया गिरफ्तार

इंदौर। मध्य प्रदेश सरकार ने आदेश दिया था कि गरबा पंडाल में प्रवेश करने वाले लोगों की आईडी चेक की जाए। इस आदेश के बाद अब गरबा पंडालों में गैर हिंदुओं की एंट्री पर रोक लगा दी गई है। इसी बीच इंदौर एक खबर आई कि यहां के पंढरीनाथ गरबा पंडाल में पांच मुस्लिम युवक आ गए थे। इसी बात को लेकर बजरंग दल के लोगों ने बवाल खड़ा कर दिया। सूचना मिलने पर पंढरीनाथ पुलिस ने पांचों को गिरफ्तार कर लिया।

बजरंग दल का दावा है कि युवकों ने फर्जी आईडी कार्ड दिखाकर गरबा पंडाल में एंट्री ली थी। साथ ही वे मोबाइल से वीडियो बना रहे थे। लड़कों से जब पूछताछ की गई तो वे मुस्लिम निकले। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने धारा 151 के तहत पांच लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

यह भी पढ़ें: सबसे पहले RSS पर प्रतिबंध लगे, यह PFI से भी बुरा संगठन है: संघ के खिलाफ विपक्ष ने खोला मोर्चा

थाना प्रभारी सतीश पटेल के मुताबिक सभी युवक मोती तबेला और मल्हारगंज इलाके के रहने वाले हैं। हिंदू संगठन की तरफ से मामले में कोई रिपोर्ट नहीं लिखाई गई है। सभी युवकों को थाने लाकर तफ्तीश करने के बाद प्रतिबंधात्मक धाराओं में केस दर्ज किया गया है। बुधवार को उन्हें कोर्ट में पेश किया गया था। कोर्ट से उन्हें जमानत मिल गई है।

बता दें कि बजरंग दल संयोजक तनु शर्मा ने शनिवार को ही गैर हिंदू समाज के युवकों को लेकर हिंसक चेतावनी दी थी। शर्मा ने समुदाय विशेष को लेकर कहा था कि वे गरबा पंडाल में आएंगे दो पैरों पर और जाएंगे चार कंधों पर। उधर उज्जैन के नानाखेड़ा ग्राउंड में आयोजित किए जा रहे गरबा पंडालों में भी गैर हिंदुओं के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया गया है। गरबा ‘सेवा ही संकल्प’ समिति की ओर से आयोजित किया जा रहा है। पंडाल में इसके लिए होर्डिंग लगाया गया है। 

इससे पहले शिवराज सरकार में संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर ने लव जिहाद और गरबा पंडाल को लेकर कहा था कि गरबा पंडाल लव जिहाद का बड़ा माध्यम बन चुके हैं, इसलिए बहुत जरूरी है कि कोई भी व्यक्ति गरबे में अपनी पहचान छिपाकर नहीं आए। पंडाल में आने वाले हर व्यक्ति को आईडी देखकर ही एंट्री दें। ये सभी आयोजकों को तय करना चाहिए।