संकट काल में छिंदवाड़ा की जनता के लिए आगे आए नकुल नाथ, अपने खर्चे पर बनवाया कोविड अस्पताल

नकुल नाथ ने रानी कोठी में एक कोविड अस्पताल बनवाया है, जिसमें मरीजों का न्यूनतम खर्चे पर इलाज हो पा रहे है, साथ ही नकुल नाथ ने अपने खर्चे पर रेमडेसिविर इंजेक्शन की व्यवस्था कराई है

Updated: Apr 12, 2021, 09:37 AM IST

संकट काल में छिंदवाड़ा की जनता के लिए आगे आए नकुल नाथ, अपने खर्चे पर बनवाया कोविड अस्पताल
Photo Courtesy: News18

छिंदवाड़ा। कोरोना के इस संकट काल के बीच जहां शासन और प्रशासन की जनता से मुंह मोड़ने की खबरें लगातार सामने आ रही हैं, तो वहीं दूसरी तरफ छिंदवाड़ा से कांग्रेस सांसद नकुल नाथ अपने क्षेत्र की जनता के लिए आगे आए हैं। नकुल नाथ ने अपने खर्चे पर छिंदवाड़ा के रानी कोठी में एक कोविड अस्पताल तैयार कराया है। जिसमें न्यूनतम खर्च पर कोरोना के मरीजों के इलाज की शुरूआत हो गई है। 

कोविड अस्पताल के बनने के बाद अब लोगों को इमरजेंसी की व्यवस्था में भोपाल और नागपुर का रुख करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। इसे सुनिश्चित करने के लिए कांग्रेस नेता ने अस्पताल में तमाम ज़रूरी व्यवस्था कर दी हैं। इतना ही नहीं नकुल नाथ खुद अस्पताल की मॉनिटरिंग भी कर रहे हैं। इसके आलावा अस्पताल में रेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा में व्यवस्था कराने हेतु भी नकुल नाथ जुटे हुए हैं। फिलहाल इस अस्पताल में 65 बेड हैं, लेकिन जल्द ही इसे 100 बेड वाले अस्पताल में तब्दील करने की योजना है। खुद सांसद ने इस बात का आश्वासन दिया है कि इस अस्पताल में किसी भी तरह की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी। 

यह भी पढ़ें : श्मशान घाटों पर अंतिम संस्कार के लिए कम पड़ने लगी जगह, अस्थाई जगह बनाने की हो रही है तैयारी

नकुल नाथ ने इस अस्पताल को महाराष्ट्र के अमरावती की संस्था सरस्वती हरवानी चैरिटेबल ट्रस्ट की मदद से बनाया है। नकुल नाथ पिछले महीने ही प्रशासन के साथ हुई बैठक में कोरोना की भयावह स्थिति को लेकर आगाह किया था। जिसके बाद नकुल नाथ ने ट्रस्ट के प्रमुख अरुण हरवानी से संपर्क किया। और अब यह अस्पताल तैयार हो गया है। 

यह भी पढ़ें : कोरोना के खिलाफ लड़ाई में गाडरवारा विधायक सुनीता पटेल ने समर्पित किया पारिवारिक कॉम्प्लेक्स

अपने सांसद के इस कार्य से क्षेत्र की जनता फूले नहीं समा रही है। क्योंकि शासकीय अस्पताल और निजी अस्पतालों में इलाज न मिल पाने के कारण कोरोना के मरीजों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा था।