घर में बना सकेंगे मयखाना, 500 में लाइसेंस देगी सरकार, कांग्रेस बोली- युवाओं को बर्बाद करने की योजना

मध्य प्रदेश सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन के मुताबिक अब लोग नए साल में घर में ही जमकर शराब पार्टी कर सकेंगे। इसके लिए 500 रुपए का लाइसेंस लेना होगा।

Updated: Dec 26, 2022, 05:03 PM IST

घर में बना सकेंगे मयखाना, 500 में लाइसेंस देगी सरकार, कांग्रेस बोली- युवाओं को बर्बाद करने की योजना

भोपाल। मध्य प्रदेश में एक ओर भाजपा नेता उमा भारती ने शराब के खिलाफ मुहिम छेड़ रखा है, वहीं शिवराज सरकार ने घर-घर तक शराब पहुंचाने की योजना शुरू कर दी है। मध्य प्रदेश के लोग अपने घरों में ही अहाता बना सकेंगे। इसके लिए 500 रुपए का लाइसेंस लेना होगा। विपक्षी दल कांग्रेस ने इसे युवाओं को बर्बाद करने की योजना करार दिया है।

मध्य प्रदेश में नई आबकारी नीति के तहत अब लोगों को घरों में शराब पार्टी करने के लिए लाइसेंस दिया जाएगा। 500 रुपए की लाइसेंस में लोग घरों में बैठकर ही दोस्तों के साथ जाम छलका सकेंगे। इसके लिए सिर्फ एक 8 कॉलम का फॉर्म भरना होगा और फिर घर पर शराब की पार्टी करने का लाइसेंस मिल जाएगा। 

आबकारी विभाग द्वारा FL- 5 कैटेगरी में ऑनलाइन लाइसेंस भरने की सुविधा दी है। घर के अलावा मैरिज गार्डन, हॉल, और रेस्तरां के लिए भी लाइसेंस लिया जा सकेगा। हालांकि, मैरिज गार्डन और रेस्तरां को अहाते में तब्दील करने के लिए शुल्क ज्यादा रखा गया है। आबकारी नीति के मुताबिक हाउस पार्टी में 4 बोटल से अधिक शराब होने पर लाइसेंस अनिवार्य रहेगा। 

यह भी पढ़ें: छात्रों को जगाने के लिए सुबह अलार्म बजाएं मंदिर-मस्जिद, हरियाणा सरकार का अजीबोगरीब निर्देश

रिपोर्ट्स के मुताबिक ऑनलाइन लाइसेंस सिर्फ एक दिन के लिए ही मान्य होगा। रेवेन्यू बढ़ाने के लिए सरकार ने यह नई नीति बनाई है। इस योजना के बाद अब घर में लोग भीड़-भाड़ इकट्ठा कर शराब पार्टी करेंगे। सरकार से लाइसेंस मिलने के बाद आस पड़ोस के लोग अथवा सोसायटी के लोग भी उंगली नहीं उठा पाएंगे।

बहरहाल, इस योजना को लेकर शिवराज सरकार चौतरफा घिरी हुई है। विपक्षी दल कांग्रेस ने इसे युवाओं को बर्बाद करने का स्कीम करार दिया है। नेता प्रतिपक्ष डॉ गोविंद सिंह ने कहा कि, 'नया साल आने वाला है। इस तरह का आदेश लोगों को नशे में डूबो देगा। सरकार युवाओं को नशे में धकेलना चाहती है। यह पॉलिसी युवाओं के लिए बिलकुल सही नहीं है। शराब से सबसे ज्यादा महिलाएं परेशान हैं। लेकिन शिवराज सरकार पूरे प्रदेश को नशे में डुबोने में जुटी हुई है।'