एक लाख की रिश्वत लेते धराया बिजली कंपनी का अधिकारी, सागर लोकायुक्त की टीम ने रंगे हाथों पकड़ा

MPEB में एक्जीक्यूटिव इंजीनियर के पद पदस्थ है अखिलेश त्रिवेदी, क्लेम की राशि दिलाने के एवज में किशोर दांगी से मांगे थे एक लाख रुपए, लोकायुक्त की टीम ने किया पर्दाफाश

Publish: Oct 08, 2021, 12:27 PM IST

एक लाख की रिश्वत लेते धराया बिजली कंपनी का अधिकारी, सागर लोकायुक्त की टीम ने रंगे हाथों पकड़ा
प्रतीकात्मक तस्वीर - Canadianbusiness.com

सागर। सागर लोकायुक्त की टीम ने टीकमगढ़ में बिजली कंपनी के अधिकारी पर रिश्वतखोरी के मामले में कार्रवाई की है। लोकायुक्त की टीम अधिकारी को गिरफ्तार कर अपने साथ ले गई है। बिजली कंपनी के अधिकारी पर एक लाख रुपए की रिश्वत लेने का आरोप है। 

रिश्वतखोर आरोपी पर यह कार्रवाई किशोर दांगी नामक व्यक्ति की शिकायत के बाद की गई है। किशोर दांगी क्लेम की राशि पाने के लिए लगातार MPEB के चक्कर काट रहे थे। लेकिन लगातार भटकने के बावजूद उनकी सुनवाई नहीं हो रही थी। 

सुनवाई न होने से तंग आ जाने के बाद किशोर दांगी ने कंपनी में एक्जीक्यूटिव इंजीनियर के पद पर पदस्थ अखिलेश त्रिवेदी से मुलाकात की। लेकिन अखिलेश त्रिवेदी ने किशोर दांगी की समस्या के निपटारे के एवज में रिश्वत के तौर पर एक लाख रुपए की पेशकश कर दी। 

किशोर दांगी ने अधिकारी की मांग तो मान ली लेकिन इसके साथ ही किशोर ने तत्काल ही इस बात की सूचना लोकायुक्त को दे दी। भ्रष्टाचार की शिकायत मिलने के बाद लोकायुक्त की टीम ने अधिकारी को रंगे हाथों पकड़ने की योजना बनाई। 

किशोर दांगी लोकायुक्त की टीम के कहने पर शुक्रवार सुबह करीब साढ़े दस बजे एक लाख रुपए लेकर अधिकारी के कार्यालय में दाखिल हुए। रिपोर्ट्स के मुताबिक किशोर दांगी अपने साथ 50 हजार रुपए कैश और 50 हजार का चेक लेकर अधिकारी के कार्यालय में दाखिल हुए थे। जैसे ही अधिकारी ने किशोर दांगी से रिश्वत ली, वैसे ही लोकायुक्त की टीम ने अधिकारी को धर दबोच लिया।

लोकायुक्त की टीम ने अधिकारी को हिरासत में ले लिया है।अधिकारी को हिरासत में लिए जाने के बाद इस बात की भी संभावना प्रबल है कि क्लेम के लिए परेशान होने वाले अन्य लोग भी सामने आ सकते हैं, जिन्हें अधिकारी को रिश्वत देने पर मजबूर होना पड़ा हो।