पृथ्वीपुर डबल मर्डर केस में हुआ खुलासा, भतीजे ने की थी किसान और उसके दोस्त की हत्या, पार्टी के लिए हुई थी बहस

शिवदयाल नामक युवक की अपने चाचा सूरी और काशीराम से पार्टी को लेकर बहस हो गई थी, जिसके बाद शिवदयाल ने दोनों की कुल्हाड़ी से हत्या कर दी, उस दौरान एक अन्य व्यक्ति भी मौके पर मौजूद था, जो किसी तरह से अपनी जान बचाकर भागने में कामयाब हो गया

Updated: Oct 21, 2021, 11:10 AM IST

पृथ्वीपुर डबल मर्डर केस में हुआ खुलासा, भतीजे ने की थी किसान और उसके दोस्त की हत्या, पार्टी के लिए हुई थी बहस

निवाड़ी। निवाड़ी जिले के माडपुर खास गांव के डबल मर्डर केस का खुलासा हो गया है। शिवदयाल नाम के एक युवक ने अपने चाचा और उनके दोस्त की कुल्हाड़ी से हत्या कर दी थी। पुलिस ने आरोपी शिवदयाल को पकड़ लिया है, उसने अपना जुर्म भी कबूल लिया है। 

पार्टी के लिए हुआ था झगड़ा 

आरोपी शिवदयाल ने घटना को लेकर खुलासा करते हुए कहा है कि सारा विवाद पार्टी को लेकर हुआ था। खेत पर हम तीनों ही पार्टी करते थे। लेकिन मंगलवार रात को चाचा सूरी और उनके दोस्त काशीराम ने युवक को पार्टी का इंतजाम करने के लिए कहा था। इसके बाद विवाद हो गया और शिवदयाल ने दोनों की कुल्हाड़ी से हत्या कर दी।

यह भी पढ़ें : सो रहे किसानों की गला रेत कर हत्या, कमल नाथ ने कहा, जहां पूरी सरकार मौजूद, वहां भी अपराधियों का बोलबाला

इतना ही नहीं जब यह सब कुछ हो रहा था तब मौके पर एक अन्य व्यक्ति भी मौजूद था। लेकिन हरगोविंद किसी तरह से अपनी जान बचाने में कामयाब हो गया। उसी ने जा कर शिवदयाल द्वारा अपने चाचा पर हमला किए जाने की सूचना दी थी। 

क्या है मामला 

मंगलवार और बुधवार की दरमियानी रात तीन बजे के आसपास खेत में रखवारी कर रहे है दो किसानों की गला रेत कर हत्या कर दी थी। दोनों ही किसान मूंगफली की फसल की रखवारी खेत में कर रहे थे। हत्या की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची थी। शुरुआत में पुलिस को हत्यारे की जानकारी नहीं थी। पहले यह खबर आई थी कि दोनों किसानों के सोते वक्त कोई अज्ञात व्यक्ति उनकी गला रेत कर हत्या कर गया है। लेकिन बुधवार की शाम होते होते पुलिस ने इस मामले की गुत्थी सुलझा ली। 

यह घटना निवाड़ी ज़िला मुख्यालय से 13 किलोमीटर की दूरी पर हुई थी। जिस जगह यह घटना हुई वह पृथ्वीपुर विधानसभा सीट के अंतर्गत आता है। जहां कुछ ही दिनों में उपचुनाव होने हैं। पूर्व सीएम कमल नाथ ने इस मर्डर केस को लेकर शिवराज सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल भी खड़े किए थे।