11 लाख की रिश्वत लेने वाले अफसर हुए सस्पेंड, ठेकेदारी दिलाने के लिए कमीशन के नाम पर ली थी रिश्वत

एपी सिंह मध्यप्रदेश औद्योगिक विकास निगम में प्रबंध संचालक के पद पर रीवा में तैनात थे, अधिकारी ने रीवा के गुढ और सिंगरौली में हो रहे कार्यों के लिए हरियाणा की कंपनी को ठेका दिलाने का नाम पर रिश्वत ली थी

Updated: Jun 05, 2021, 10:02 AM IST

11 लाख की रिश्वत लेने वाले अफसर हुए सस्पेंड, ठेकेदारी दिलाने के लिए कमीशन के नाम पर ली थी रिश्वत
Photo Courtesy: Dainik Bhaskar

रीवा। ठेकेदारी दिलाने के नाम पर कंपनी के सचिव से रिश्वत लेने वाले अधिकारी को बवाल मचने के बाद सस्पेंड कर दिया है। मध्यप्रदेश औद्योगिक विकास निगम में प्रबंध संचालक के पद पर तैनात एपी सिंह का रिश्वत लेते हुए वीडियो वायरल होने के बाद कार्रवाई की गई है। हालांकि रिश्वत लेने की बात सामने आने के बाद अधिकारी की सफाई और उनका रसूख भी किसी काम नहीं आया। 

यह भी पढ़ें : विकास निगम के अधिकारी ने ठेकेदार से ली रिश्वत, 11 लाख की रिश्वत लेते वीडियो वायरल

दरअसल गुरुवार को एपी सिंह का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। जिसमें वे हरियाणा के रोहतक की कंपनी धर्मपाल एंड कंपनी को ठेकेदारी दिलाने के नाम पर झोला भरकर 11 लाख की रिश्वत लेते हुए कैमरे पर धराए थे। एपी सिंह पर आरोप था कि उन्होंने रीवा के गुढ और सिंगरौली में हो रहे औद्योगिक कार्यों के लिए धर्मपाल एंड कंपनी को ठेकेदारी दिलाई थी। जिसके एवज में उन्होंने कंपनी के सचिव से 11 लाख की रिश्वत ली थी। 

यह भी पढ़ें : बंगाल में टीकाकरण के सर्टिफिकेट पर अब होगी ममता की तस्वीर, बीजेपी ने कहा, एक अलग देश की तरह बर्ताव कर रही है टीएमसी

अधिकारी का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद बवाल मच गया। चूंकि अधिकारी पर पहले भी भ्रष्टाचार के आरोप लगते रहे हैं, इसलिए अधिकारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की जाने लगी। हालांकि एपी सिंह ने वीडियो वायरल होने के बाद स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि उन्होंने निजी पैसे लिए हैं, किसी प्रकार की घूस नहीं ली है। इसके साथ ही अधिकारी ने मामले को दबाने के लिए पुलिस विभाग में उच्च पद पर पदस्थ अपने भाई के रसूख का भी सहारा लिया। लेकिन अधिकारी का स्पष्टीकरण और रसूख भी अधिकारी को निलंबित होने से नहीं बचा पाया।