प्रज्ञा ठाकुर: मुस्लिम शासकों के अत्याचार से जुड़े हर स्थान का नाम बदलना चाहिए

इससे पहले उमा भारती भोपाल के हलाली डैम का नाम बदलने की मांग कर चुकी हैं, स्पीकर रामेश्वर शर्मा भी ईदगाह हिल्स का नाम बदलकर गुरुनानक देव के नाम पर रखने की कवायद कर चुके हैं

Updated: Jan 27, 2021, 09:24 AM IST

प्रज्ञा ठाकुर: मुस्लिम शासकों के अत्याचार से जुड़े हर स्थान का नाम बदलना चाहिए
Photo Courtesy: The Week

भोपाल। राजधानी भोपाल में कुछ स्थानों के नाम बदलने पर छिड़ी बहस में अब बीजेपी की भोपाल सांसद प्रज्ञा ठाकुर भी कूद पड़ी हैं। प्रज्ञा ठाकुर ने हमेशा की तरह एक और विवादास्पद बयान देते हुए कहा है कि ऐसी हर जगह का नाम बदल देना चाहिए जो मुस्लिम शासकों की क्रूरता की कहानी बयान करता हो। 

प्रज्ञा ठाकुर ने अपने बयान में तीन ऐसी जगहों के नाम भी गिनाए हैं, जिन्हें उनकी राय में बदल देना चाहिए। प्रज्ञा ठाकुर के मुताबिक भोपाल के हलाली डैम के साथ-साथ, लालघाटी और हलालपुरा बस स्टैंड का नाम भी बदल देना चाहिए। प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि ये सभी नाम मुस्लिम शासकों द्वारा बरती गई बर्बरता से जुड़े हुए हैं।

प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि हलाली डैम का मतलब यह है कि दोस्त मोहम्मद खां ने भोपाल के आस पास रहने वाले राजाओं को हलाल करवाया। इसके साथ ही लालघाटी में रानी के पुत्रों की हत्या कर घाटी को लाल कर दिया। जिस वजह से घाटी का नाम लालघाटी पड़ गया। प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि जो कोई भी स्थान मुस्लिम शासक की क्रूरता बयान करता हो उन सभी जगहों के नाम बदल देने चाहिए। 

प्रज्ञा ठाकुर ने यह बयान पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती की इसी तरह की मांग के बाद दिया है। दो दिन पहले उमा भारती ने बैरसिया से बीजेपी विधायक विष्णु खत्री को पत्र लिखकर हलाली डैम का नाम बदलने की मांग की थी। जगहों के नाम बदलने की सियासत का ताज़ा सिलसिला उमा भारती के उसी पत्र के बाद शुरू हुआ है। इससे पहले प्रज्ञा ठाकुर और उमा भारती के अलावा प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा भी भोपाल के ईदगाह हिल्स का नाम बदलने की मांग कर चुके हैं।