भोपाल में करणी सेना का शक्ति प्रदर्शन, जंबूरी मैदान में गूंजा हम हैं माई के लाल का नारा, विधानसभा घेरने की चेतावनी दी

भोपाल के जंबूरी मैदान में 2 लाख से अधिक करणी सैनिक पहुंचे हैं, करणी सेना परिवार के प्रमुख ने शुरू की भूख हड़ताल, चार बजे विधानसभा घेराव की चेतावनी

Updated: Jan 08, 2023, 06:56 PM IST

भोपाल में करणी सेना का शक्ति प्रदर्शन, जंबूरी मैदान में गूंजा हम हैं माई के लाल का नारा, विधानसभा घेरने की चेतावनी दी

भोपाल। राजधानी भोपाल का ऐतिहासिक जंबूरी मैदान खचा-खच भरा हुआ है। रविवार को जंबूरी मैदान में करणी सेना के बैनर तले राजपूतों ने शिवराज सरकार के खिलाफ हुंकार भरी है। शनिवार शाम से ही यहां एक लाख से अधिक करणी सैनिकों ने डेरा डाल लिया था। सुबह तक यह संख्या 2 लाख के पर चली गई। 

करणी सेना परिवार के प्रमुख जीवन सिंह शेरपुर ने भूख हड़ताल शुरू कर दी है। उन्होंने राज्य सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर 4 बजे तक हमारी मांगे पूरी नहीं हुई तो हम विधानसभा का घेराव करेंगे। धरने में शामिल हो रहे प्रदर्शनकारियों ने खुली चुनौती देते हुए कहा कि देख लो शिवराज, यह सरकार की जुटाई भीड़ नहीं है, जो पैसे देकर और वाहनों में भरकर लाई जाती है।

मध्य प्रदेश सरकार ने इस प्रदर्शन को कमजोर करने के लिए बसों का परमिट रद्द करने के भी निर्देश दिए थे। इसके बावजूद निजी वाहनों से राजपूत समाज के लोग भोपाल के जंबूरी मैदान पहुंचे हैं। करणी सेना परिवार के प्रदेश अध्यक्ष जीवन सिंह शेरपुर के अलावा यहां राजस्थान से आए करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष महिपाल सिंह मकराणा, जयपुर यूनिवर्सिटी के छात्र संघ अध्यक्ष रविन्द्र सिंह भाटी भी मौजूद हैं। इनका दावा है कि राजधानी में आज 10 लाख से ज्यादा राजपूत भोपाल पहुंच चुके हैं।

करणी सेना के इस शक्ति प्रदर्शन में राजस्थान के दिवंगत आनंदपाल सिंह का भाई पहुंचे हैं। वह राजस्थान से सैंकड़ों गाड़ियों का काफिला लेकर भोपाल पहुंचे हैं। उत्तर प्रदेश के विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया भी इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले थे। हालांकि, फ्लाइट मिस होने के कारण वे नहीं आ पाए। युवा और करणी सेना के लोगों 'माई के लाल' के नारे लगा रहे हैं। 

महाराष्ट्र, यूपी, छत्तीसगढ़, राजस्थान से भी राजपूत समाज और करणी सेना के लोग भोपाल पहुंचे हैं। प्रदर्शन में शामिल होने के लिए सबसे अधिक भीड़ इंदौर-भोपाल हाईवे पर देखने को मिली। सीहोर और नरसिंहगढ़-व्यावरा हाईवे पर वाहनों का रेला देखा गया। दोपहर तक हजारों लोग कार्यक्रम स्थल तक पहुंच नहीं सके थे। लोग पूरे शहर में वाहनों का कतार लेकर घूमते नजर आए।

यह भी पढ़ें: कड़ाके की ठंड के बावजूद जंबूरी मैदान में उमड़ा जनसैलाब, करणी सेना का शक्ति प्रदर्शन आज

बता दें कि करणी सेना परिवार 21 सूत्री मांगों को लेकर यह आंदोलन कर रही है। इसमें पद्मावत फिल्म के दौरान दर्ज मुकदमों को वापस लेने, ओल्ड पेंशन स्कीम, किसानों के हित में स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने, बेरोजगार युवाओं को भत्ता देने, आर्थिक आधार पर आरक्षण देने, एससी-एसटी एट्रोसिटी केस में बिना जांच के गिरफ्तारी पर रोक लगाने सहित कई मांगें शामिल है।