सीधी में महिला से सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या, पुलिस की कार्रवाई से संतुष्ट नहीं पीड़ित परिजन

सीधी के कुर्वाह की रहने वाली महिला 14 जुलाई को भैंस खोजने गई थी, जिसके बाद महिला घर नहीं लौटी, परिजनों और गांव वालों ने मिलकर महिला को खूब तलाशा लेकिन दो दिन बाद महिला का शव डेम्हा गांव के पास सोन नदी के किनारे मिला

Updated: Jul 27, 2021, 10:24 AM IST

सीधी में महिला से सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या, पुलिस की कार्रवाई से संतुष्ट नहीं पीड़ित परिजन

सीधी। सीधी में महिला के साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के मामले में स्थानीय प्रशासन की जांच सवालों के घेरे में आ गई है। पीड़ित परिजन पुलिस की कार्रवाई से संतुष्ट नहीं हैं। परिजनों का आरोप है कि कुछ राजनीतिक और आर्थिक कारक इस मामले की जांच को प्रभावित कर रहे हैं। परिजन जल्द से जल्द दोषियों को सजा दिलाने की मांग कर रहे हैं ताकि भविष्य में ऐसी क्रूर घटनाओं को रोका जा सके। परिजनों ने इसके लिए सीधी जिले के पुलिस अधीक्षक को शिकायत पत्र भी सौंपा है।

नग्न अवस्था में मिला था महिला का शव 

बीते 16 जुलाई को सीधी जिले के कुर्वाह गांव की रहने वाली 35 वर्षीय महिला का शव सोन नदी के किनारे मिलने से हड़कंप मच गया। महिला का शव नग्न अवस्था में मिला था। दरिंदों ने हैवानियत की हदों को पार करते हुए महिला के पैर काट दिए। गुप्तांग में पत्थर भी डाले और महिला को जला दिया। इसके बाद दरिंदों ने महिला के शव को सोन नदी के किनारे फेंक दिया। मृतक महिला के कपड़े शव से 500 मीटर की दूरी पर झाड़ियों में मिले थे। 

परिजनों ने दर्ज कराई थी गुमशुदगी की रिपोर्ट 

शव मिलने के बाद तत्काल महिला के परिजनों को सूचना दी गई। परिजनों ने बताया कि महिला दो दिनों से लापता थी। 14 जुलाई की सुबह मृतक भैंस खोजने के लिए निकली थी। जिसके बाद लौट कर नहीं आई। महिला के लौट के न आने पर परिजनों ने तत्काल ही जमोडी थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज करा दी। 

इधर परिजनों ने महिला की तलाश जारी रखी थी। महिला से आखिरी बार उनकी बात 14 जुलाई की सुबह सात बजे के आसपास हुई थी। दो दिन लापता होने के बाद महिला का शव डेम्हा घाट पर मिलने के बाद परिजनों की सारी उम्मीदें जवाब दे गई। अब परिजन इंसाफ के लिए दर दर की ठोकरें खा रहे हैं। अगर यही घटना दिल्ली में हुई होती तो आज पूरा देश इस घटना के बारे में जान रहा होता लेकिन चूंकि यह बीजेपी शासित राज्य में हुई है, इसलिए महज़ फाइलों में अटक कर रह गई है। इस पूरे मामले में सीधी जिले के पुलिस अधीक्षक से संपर्क नहीं हो पाया।