मुख्यमंत्री ने दिया आदेश, प्यारे मियां यौन शोषण मामले की शिकार नाबालिग बेटी की मौत की जांच SIT करेगी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने बच्ची की मौत को दुर्भाग्यपूर्ण बताया, कहा हम बेटी को बचा नहीं पाए, घटना के दोषियों पर कड़ी कार्रवाई होगी

Updated: Jan 22, 2021, 02:04 PM IST

मुख्यमंत्री ने दिया आदेश, प्यारे मियां यौन शोषण मामले की शिकार नाबालिग बेटी की मौत की जांच SIT करेगी
Photo Courtesy: financial express

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्यारे मियां यौन शोषण मामले की शिकार नाबालिग लड़की की मौत मामले की जांच के निर्देश दिए हैं। इस मामले की जांच SIT करेगी। शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक उच्चस्तीय बैठक बुलाई। इस मामले में पुलिस पर आरोप है कि मृतका के परिवार को बिना बताए बच्ची का अंतिम संस्कार करा दिया गया है।

और पढ़ें: प्यारे मियां केस: पीड़िता ने खाई नींद की गोलियां,  

मुख्यमंत्री के साथ उच्च स्तरीय बैठक में प्रदेश के डीजीपी विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव गृह राजेश राजौरा, सीएम के ओएसडी मकरंद देउसकर, आईजी भोपाल उपेंद्र जैन और भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया मौजूद थे। दरअसल भोपाल में प्यारे मियां यौन शोषण मामले की पीड़िता नाबालिग लड़की ने नींद की गोलियां खा ली थीं जिसके बाद बुधवार को उसकी मौत हो गई। गुरुवार को भदभदा विश्राम घाट पर बिना परिवार को बुलाए पुलिस ने उसका अंतिम संस्कार कर दिया।

वहीं कांग्रेस ने नाबालिग बच्ची की मौत के बाद उसका अंतिम संस्कार परिवार को बिना बताए करने की निंदा की है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस घटना को शर्मनाक बताया है,

 

उनका कहना है कि जब प्रदेश की राजधानी में भोपाल में ही बेटियां सुरक्षित नहीं है। तो प्रदेश का क्या होगा।

 

कमलनाथ ने बीजेपी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि यह सरकार प्रदेश को कितना शर्मसार करेगी।     

दरअसल भोपाल के प्यारे मियां यौन शोषण मामले की नाबालिग पीड़िता ने बालिका गृह में नींद की गोलियां खा ली थी। पीड़िता को हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उसकी बिगड़ गई और उसकी मौत हो गई।नाबालिग मृतका के परिजनों ने आरोप लगाया था कि पीड़िता को नींद की गोली दी गई हैं, जिसका डोज़ ज्यादा होने से उसकी स्थिति खराब हो गई। 

परिजनों ने बालिका गृह पर गोलियां देने का आरोप लगाया था। मामला बढ़ने पर भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया ने मामले की न्यायिक जांच के आदेश दे दिए थे। अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने इस मामले की जांच SIT को सौंपी है।