विक्रांत भूरिया बने मध्य प्रदेश यूथ कांग्रेस के नए अध्यक्ष

यूथ कांग्रेस चुनाव में विक्रांत भूरिया ने सभी प्रतिद्वंदियों को पीछे छोड़ते हुए रिकॉर्ड 40 हजार 850 मत प्राप्त किए, पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया के बेटे हैं विक्रांत

Updated: Dec 18, 2020, 07:10 PM IST

विक्रांत भूरिया बने मध्य प्रदेश यूथ कांग्रेस के नए अध्यक्ष
Photo Courtesy: Twitter

भोपाल। मध्य प्रदेश में सात साल बाद हुए यूथ कांग्रेस चुनाव के नतीजे घोषित हो गए हैं। कांग्रेस के युवाओं ने विक्रांत भूरिया को अपना नया अध्यक्ष चुना है। मध्य प्रदेश यूथ कांग्रेस के नए अध्यक्ष चुने जाने पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने विक्रांत भूरिया को बधाई दी है। युवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए कुल 9 उम्मीदवारों के बीच मुकबला हुआ था। संजय यादव, सत्येंद्र कुशवाह और विवेक त्रिपाठी को पीछे छोड़ते हुए विक्रांत भूरिया ने सबसे ज्यादा वोट हासिल किए हैं।

विक्रांत के अध्यक्ष चुने जाने पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट किया, 'युवा कांग्रेस के चुनावों में मध्य प्रदेश युवा कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित होने पर डॉ विक्रांत भूरिया को हार्दिक शुभकामनाएँ। अन्य पदाधिकरियो को भी बहुत-बहुत बधाई। उम्मीद करता हूँ कि आप युवाओं की आवाज़ बनकर पार्टी की रीति- नीतियो के अनुरूप जनहित के लिये संघर्ष करेंगे।'

 

 

भारतीय यूथ कांग्रेस के वेबसाइट पर जारी अपडेट के मुताबिक विक्रांत भूरिया ने अपने सभी प्रतिद्वंदियों को पीछे छोड़ते हुए रिकॉर्ड 40 हजार 850 मत प्राप्त किया, वहीं दूसरे नंबर पर रहे संजय सिंह यादव को 20,430 मत प्राप्त हुए। वहीं चुनाव प्रक्रिया पर सवाल खड़े करने वाले विवेक त्रिपाठी 9,827 वोट के साथ चौथे नंबर पर रहे। 

यूथ कांग्रेस चुनाव में खड़े हुए तीन उम्मीदवारों को उपाध्यक्ष बनाया गया है। इनमें दूसरे नंबर पर रहने वाले संजय सिंह यादव के अलावा एससी/एसटी कोटे से विपिन वानखेड़े और महिला कोटे से प्रतिमा मुदगल शामिल हैं। साथ ही अन्य सभी उम्मीदवारों को सचिव पड़ की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

कौन हैं विक्रांत भूरिया

विक्रांत भूरिया दिग्गज कांग्रेस नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया के बेटे हैं। आदिवासी समाज से आने वाले भूरिया अपने विधानसभा क्षेत्र में लंबे समय से सक्रिय हैं और साल 2018 में झाबुआ से कांग्रेस ने उन्हें विधानसभा उम्मीदवार भी बनाया था। लेकिन वे भाजपा के जीएस डामोर से हार गए थे। इसके बाद डामोर सांसद बन गए और जब ये सीट खाली हुई तो विक्रांत के पिता कांतिलाल भूरिया चुनाव जीत कर विधायक बने।

 

मध्य प्रदेश में यूथ कांग्रेस के 3 लाख से ज्यादा सदस्य हैं, जिनमें एक तिहाई से ज्यादा सदस्यों ने ऑनलाइन वोटिंग प्रक्रिया में हिस्सा लिया है। प्रदेश में युवा कांग्रेस के चुनाव की शुरूआत साल 2011 में हुई थी। सबसे पहले प्रियव्रत सिंह अध्यक्ष चुने गए थे, वहीं दूसरी बार कुणाल चौधरी को साल 2013 में अध्यक्ष चुना गया था। उसके बाद लगातार यह चुनाव टलता रहा। नतीजतन कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी ही पिछले सात वर्षों से पद पर बने हुए थे।