रद्द नहीं होगी 12वीं CBSE बोर्ड परीक्षा, कब और कैसे होगी परीक्षा जानने के लिए करना होगा 1 जून का इंतजार

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने राज्यों से बोर्ड परीक्षाओं को लेकर 2 दिनों में सुझाव मांगे हैं, एक जून को 12वीं बोर्ड परीक्षा के पैटर्न का एनाउंसमेट किया जाएगा, केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा छात्रों के भविष्य और सुरक्षा दोनों को लेकर हैं चिंतित

Updated: May 23, 2021, 08:28 PM IST

रद्द नहीं होगी 12वीं CBSE बोर्ड परीक्षा, कब और कैसे होगी परीक्षा जानने के लिए करना होगा 1 जून का इंतजार
Photo courtesy: twitter

दिल्ली। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने आखिरकार साफ कर दिया है कि 12वीं क्लास की CBSE परीक्षा रद्द नहीं की जाएगी। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने रविवार को केंद्रीय मंत्रियों और विभिन्न राज्यों के शिक्षा मंत्रियों और शिक्षा सचिवों के साथ ऑनलाइन बैठक की। इस बैठक में सभी राज्यों से 12वीं बोर्ड परीक्षा को लेकर सुझाव मांगे गए थे। सभी राज्यों ने अपने-अपने सुझाव दिए हैं। जिसमें परीक्षा की अवधी 3 घंटे से कम करके डेढ़ घंटे करना, केवल मुख्य विषयों की परीक्षा लेना और वैक्सीनेशन के बाद ही छात्रों की परीक्षाएं आयोजित करने जैसे सुझाव शामिल थे।

इस बैठक में सर्व सम्मति से 12 CBSE की परिक्षाएं रद्द नहीं करने का फैसला लिया गया है। लेकिन परीक्षा कब से होगी, कैसे होगी आनलाइन या आफलाइन ली जाएगी इस पर कोई फैसला नहीं हो पाया है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने सभी राज्यों से सुझाव मांगे हैं। राज्यों को 25 मई तक परीक्षा संचालन को लेकर अपने सुझाव देने हैं। रविवार को हुई हाई लेवल मीटिंग में परीक्षा के पैटर्न को लेकर कोई फैसला नहीं निकल पाया है। राज्यों से सुझाव आने पर आगामी एक जून को परीक्षाओं पर फैसला आएगा। परीक्षा की घोषणा के बाद 15 दिनों में परीक्षा ली जा सकेगी।

इस बारे में केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक का कहना है कि ज्यादातर राज्य परीक्षा करवाने के लिए तैयार हैं। 25 मई तक राज्यों से जवाब आने पर आखिरी फैसला एक जून को लिया जाएगा।  केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा कि हमारे लिए छात्रों और शिक्षकों की सुरक्षा और भविष्य महत्पूर्ण हैं।

कक्षा 12 वीं में 20 सब्जेक्ट्स को CBSE मेन सब्जेक्ट मानती है। जिसमें फिजिक्स, केमेस्ट्री, मैथ्स, बायोलॉजी, हिस्ट्री, सिविक्स, पॉलिटिकल साइंस, बिजनेस स्टडीज, एकाउंस, ज्योग्राफी, इकोनॉमिक्स, इंग्लिश समते कई विषय शामिल हैं। अगर मेन सब्जेक्ट की परिक्षाएं होती हैं तो छात्रों को चार पेपर देने होंगे। वहीं आप्शनल सब्जेक्ट के नंबर मेन सब्जेक्ट के नंबर के आधार पर या साल भर के परफॉर्मेंस के आधार पर दिए जा सकेंगे।

दरअसल 12वीं की परीक्षा 4 मई से होने वाली थी, लेकिन कोरोना की सेकेंड वेब के प्रभावी होने की वजह से 14 अप्रैल को केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने कक्षा 12वीं की परीक्षा स्थगित कर दी थी। जबकि दसवी की परिक्षा रद्द कर दी गई थी।

रविवार को केंद्रीय मंत्रियों ने 12वीं बोर्ड पर चर्चा के लिए अहम बैठक थी। इस बैठक की अध्यक्षता रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह कर रहे थे। शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’, केंद्रीय मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर समेत राज्यों के शिक्षा मंत्री शामिल थे।