8 दिसंबर को भारत बंद का AAP ने भी किया समर्थन, केजरीवाल ने कहा सभी लोग दें किसानों का साथ

आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत मान ने कहा कि उनकी पार्टी सेवा भाव से किसानों के साथ खड़ी है

Updated: Dec 07, 2020, 12:48 AM IST

8 दिसंबर को भारत बंद का AAP ने भी किया समर्थन, केजरीवाल ने कहा सभी लोग दें किसानों का साथ
Photo Courtesy : Business Standard

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के विरोध में किसानों ने मंगलवार 8 दिसंबर को भारत बंद का आह्वान किया है। किसानों द्वारा भारत बंद के ऐलान का अब आम आदमी पार्टी भी खुलकर समर्थन कर रही है। आप के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा है कि उनकी पार्टी पूरी तरह से किसानों के साथ है। इसके साथ ही केजरीवाल ने देश भर की जनता और तमाम विपक्षी पार्टियों से किसानों का समर्थन करने की मांग की है। 

वहीं पंजाब के संगरूर से आप के लोकसभा सांसद भगवंत मान ने कहा है कि वे अरविन्द केजरीवाल की तरफ से देश के सभी लोगों और सभी विपक्षी दलों से किसानों के भारत बंद का समर्थन करते हैं। भगवंत मान ने कहा कि उनकी पार्टी पिछले चार महीनों से हर परिस्थिति में किसानों के साथ खड़ी है। भगवंत मान ने कहा है कि यह किसी संगठन या प्रांत का मुद्दा नहीं है। बल्कि यह ज़मीन और चूल्हे से जुड़ा हुआ मुद्दा है। 

यह भी पढ़ें : कृषि कानून वापस नहीं हुए तो लौटा दूंगा खेल रत्न सम्मान, बॉक्सर विजेंदर सिंह का एलान

किसानों की बात सुनकर अपने आकाओं से बात करते हैं मंत्री : भगवंत मान 
किसानों और केंद्र सरकार के बीच लगातार हो रही बातचीत को लेकर भगवंत मान ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार किसानों के साथ टालमटोल वाला रवैया अपना रही है। भगवंत मान ने कहा कि असली निर्णय लेना उनके हाथ में है ही नहीं। मीटिंग खत्म होने के बाद सीधे वे अपने आकाओं को कॉल करते हैं। भगवंत मान ने कहा कि सरकार को इस गलतफमी में नहीं रहना चाहिए कि यह आंदोलन ज़्यादा दिन नहीं चल पाएगा। मान ने कहा कि जब जीएसटी के लिए संसद 12 बजे बुलाई जा सकती है तो इन काले कानूनों को रद्द करने के लिए संसद का विसेष सत्र क्यों नहीं बुलाया जा सकता ? 

यह भी पढ़ें : प्रकाश सिंह बादल ने कृषि क़ानूनों के विरोध में लौटाया पद्म विभूषण, सांसद सुखदेव सिंह ढींडसा ने भी पद्म भूषण लौटाया

भगवंत मान ने कहा कि कैसी विडंबना है कि जिन कानूनों को सरकार ने संसद में यस और नो के ध्वनिमत से पारित करवा दिया। इसके जवाब में किसान अब यस और नो का प्लेकार्ड लेकर चल रहे हैं। मान ने कहा कि जैसे आज़ादी की लड़ाई में पंजाब ने लीड किया था वैसे ही इस आंदोलन में भी पंजाब लीड कर रहा है।  खिलाड़ियों द्वारा लौटाए जा रहे अवार्ड पर मान ने कहा कि ये अवार्ड खिलाड़ियों ने अपनी मेहनत के बल पर जीते हैं। इन्हें लौटाने का मतलब यह है कि उन्हें मिट्टी से प्यार है न कि अवार्ड से। 

सरकार कोर्ट की तरह केवल तारीखें दे रही है : गोपाल राय 

आम आदमी पार्टी के एक और नेता और  दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने भी केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। गोपाल राय ने कहा कि हमने सुना था कि कोर्ट में तारीख पर तारीख पड़ती है,समाधान नहीं आता।पहली बार देख रहे हैं कि किसान ठंड से ठिठुर रहे और सरकार वार्ता के नाम पर केवल टालमटोल कर रही है।किसान मांग कर रहे हैं कि कृषि कानूनों को वापस लिया जाए तो सरकार जबरदस्ती उसके फायदे गिना रही है।