कांग्रेस ने की संसद का विशेष सत्र बुलाने की मांग, अधीर रंजन चौधरी ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र

अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि सदन का हर सदस्य अपने क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता है, क्षेत्र के लोगों तक सहायता पहुंचाई जा सके, इसके लिए संसद का विशेष सत्र बुलाए जाने की आवश्यकता है

Updated: May 10, 2021, 07:55 PM IST

कांग्रेस ने की संसद का विशेष सत्र बुलाने की मांग, अधीर रंजन चौधरी ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र
Photo Courtesy: TV 9

नई दिल्ली। कोरोना के संकट काल के बीच जरूरतमंद लोगों तक सहायता पहुंचाने के लिए कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखा है। कांग्रेस नेता ने राष्ट्रपति को लिखे पत्र में संसद का विशेष सत्र बुलाए जाने की मांग की है। लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष ने कहा है कि संसद का सत्र बुलाया जाना बेहद ज़रूरी है ताकि लोगों की ज़िंदगियों में सुधार लाया जा सके। 

कांग्रेस नेता ने राष्ट्रपति को लिखे अपने पत्र में कहा है कि आप कोरोना से बेकाबू होते हालात से भली भांति परिचित हैं। इस कठिन समय में मैं संसद का विशेष सत्र बुलाए जाने की मांग करता हूं। क्योंकि भारत में कई सारे संसदीय क्षेत्र हैं और हर राज्य से सदन के सदस्य अपने क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। सदन के सदस्य अपने क्षेत्र की स्थिति सदन के पटल पर रखना चाहते हैं, इसलिए लोगों के जीवन में सुधार लाने के लिए यह जरूरी है कि संसद का विशेष सत्र बुलाया जाए। आपके उत्तर का इंतज़ार है। 

यह भी पढ़ें : हमें लोगों को कोरोना से बचाना है, सांसद निधि जल्द जारी करे सरकार, दिग्विजय सिंह ने पीएम मोदी को लिखा पत्र

इससे पहले कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह खुद प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर सांसद निधि को एक बार फिर से बहाल करने की मांग कर चुके हैं। दिग्विजय सिंह ने हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी से मांग की है कि हमें लोगों को कोरोना के प्रकोप से बचाना है, इसलिए सांसद निधि को बहाल करना बेहद ज़रूरी है। 

कांग्रेस का आरोप है कि सरकार कोरोना के आंकड़े छिपा रही है और देश को सही स्थिति से अवगत नहीं कराया जा रहा है। सोमवार को हुई कांग्रेस वर्किंग कमेटी की मीटिंग में यहां तक कहा गया कि मोदी सरकार सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट में पैसा बर्बादकर आपराधिक कृत्य कर रही है। जब देश के सभी संसाधनों को महामारी से लड़ने में लगाना चाहिए उस वक्त केंद्र की मोदी सरकार दवा, इलाज, वैक्सीनेशन, ऑक्सीजन उपलब्ध कराने की बजाय अपराध की हद तक सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को मनमाने तरीके से आगे बढ़ा रही है।