असम चुनाव: बीजेपी के विज्ञापन पर बवाल, कांग्रेस ने सीएम सोनोवाल, जेपी नड्डा के खिलाफ की FIR

कांग्रेस का आरोप है कि बीजेपी ने समाचार के शक्ल में विज्ञापन छपवाया और राज्य के सभी सीटों पर जीत का दावा किया जहां 27 मार्च को पहले चरण में मतदान हुआ था

Publish: Mar 30, 2021, 08:59 AM IST

असम चुनाव: बीजेपी के विज्ञापन पर बवाल, कांग्रेस ने सीएम सोनोवाल, जेपी नड्डा के खिलाफ की FIR
Photo Courtesy: ABP

गुवाहाटी। असम विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस ने राज्य के सत्तारूढ़ बीजेपी को निशाने पर लिया है। असम में कांग्रेस के प्रमुख रिपुन बोरा ने पूछा कि अगर बीजेपी को ऊपरी असम की सभी 47 सीटों पर जीत हासिल करने का विश्वास है, तो उसने अखबारों में विज्ञापन देने के लिए करोड़ों रुपये क्यों खर्च किए। इतना ही नहीं, कांग्रेस ने ऊपरी असम की सभी सीटों पर बीजेपी की जीत का अनुमान लगाने वाले विज्ञापन को खबर के रूप में प्रकाशित करने के मामले में सीएम सर्बानंद सोनोवाल बीजेपी अध्यक्ष जे पी नड्डा, प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष रंजीत कुमार दास और आठ प्रमुख समाचार पत्रों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करायी है।

कांग्रेस का आरोप है कि समाचार के शक्ल में छपे इस विज्ञापन के जरिये बीजेपी ने ऊपरी असम की उन सभी सीटों पर अपनी जीत का दावा किया है जहां 27 मार्च को पहले चरण में मतदान हुआ था। असम प्रदेश कांग्रेस कमेटी (एपीसीसी) के विधि विभाग के अध्यक्ष निरन बोरा ने कहा कि आदर्श आचार संहिता, जनप्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 126ए के प्रावधानों और 26 मार्च को जारी चुनाव आयोग के दिशा-निर्देशों के कथित उल्लंघन के लिये रविवार की रात प्राथमिकी दर्ज कराई गयी। 

बोरा ने कहा, 'मुख्यमंत्री, बीजेपी अध्यक्ष, प्रदेश इकाई के प्रमुख और पार्टी के अन्य सदस्यों ने दूसरे और तीसरे चरण में मतदाताओं के प्रभावित करने की पूर्व नियोजति साजिश के तहत जानबूझकर विभिन्न समाचार पत्रों के पहले पन्नों पर समाचार के रूप में विज्ञापन दिया है, जिसमें दावा किया गया है कि बीजेपी ऊपरी असम की सभी सीटों पर जीत हासिल करेगी।' एपीसीसी ने पुलिस से शिकायत में नामजद लोगों तथा समाचार पत्रों के खिलाफ 'त्वरित और आवश्यक कार्रवाई' का अनुरोध किया है।

उधर प्रदेश कांग्रेस ने विज्ञापन के प्रकाशन के खिलाफ असम के मुख्य निर्वाचन अधिकारी नितिन खाड़े के पास शिकायत की है वहीं  अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) ने चुनाव आयोग के समक्ष शिकायत दर्ज कराते हुए बीजेपी और समाचार पत्रों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई का अनुरोध किया है। कांग्रेस ने बीजेपी नेताओं पर आदर्श आचार संहिता, जनप्रतिनिधित्व कानून- 1951 के प्रावधान 126ए और चुनाव आयोग द्वारा 26 मार्च को जारी निर्देशों का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है।