CWC: गुलाम नबी आजाद की सफाई, राहुल गांधी ने नहीं कही बीजेपी से मिले होने की बात

Ghulam Nabi Azad: वर्किंग कमेटी में पार्टी के नए अध्यक्ष को लेकर चर्चा, गुलाम नबी आजाद ने अपने इस्तीफे की खबरों को लेकर भी दी सफाई

Updated: Aug-25, 2020, 07:45 PM IST

CWC: गुलाम नबी आजाद की सफाई, राहुल गांधी ने नहीं कही बीजेपी से मिले होने की बात
Photo Courtesy: Swaraj Express

कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में राहुल गांधी के सोनिया गांधी को पत्र लिखने वाले वरिष्ठ नेताओं के बीजेपी से मिले होने को लेकर दिए गए कथित बयान पर पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्य सभा सांसद गुलाम नबी आजाद ने स्पष्टीकरण देते हुए कहा है कि राहुल ने ना तो बैठक के दौरान और ना ही बाहर कभी ऐसा बयान नहीं दिया। उन्होंने अपने इस्तीफे की बात पर भी स्पष्टीकरण दिया। 

गुलाम नबी आजाद ने ट्वीट करते हुए कहा, “कुछ मीडिया संस्थान यह गलत खबर चला रहे हैं कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में मैंने राहुल गांधी से कहा कि वो ये सिद्ध करें कि हमने बीजेपी से मिलीभगत कर पत्र लिखा। मैं यह पूरी तरह साफ कर देना चाहता हूं कि राहुल गांधी ने ना तो वर्किंग कमेटी की बैठक में और ना ही कभी बाहर कहा कि पत्र बीजेपी की सह पर लिखा गया है।”

अपने इस्तीफे की बात पर स्पष्टीकरण देते हुए आजाद ने ट्वीट में आगे कहा, “कल कांग्रेस के कुछ लोगों ने यह आरोप लगाया था कि पत्र बीजेपी की मिलीभगत पर लिखा गया है। इसी संदर्भ में मैंने कहा कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि हमारे ऊपर बीजेपी से साथ मिले होने का आरोप लगाया गया है। अगर वे लोग यह आरोप सिद्ध कर देते हैं तो मैं इस्तीफा दे दूंगा।”

इससे पहले कपिल सिब्बल ने भी राहुल गांधी के इस बयान को लेकर ट्वीट करते हुए नाराजगी जताई थी। हालांकि, बाद में उन्होंने ट्वीट वापस लाते हुए कहा कि राहुल गांधी से उनकी फोन पर बात हुई और गांधी ने इस तरह का कोई बयान नहीं दिया। 

न्यूज एजेंसी एएनआई ने खबर दी थी कि राहुल गांधी सोनिया गांधी को पत्र लिखने वाले नेताओं से नाराज हैं। एजेंसी के अनुसार राहुल ने कहा कि यह पत्र एक ऐसे समय लिका गया जब राजस्थान में राजनीतिक संकट जारी था और पत्र पर चर्चा की सही जगह मीडिया ना होकर कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक है। एएनआई ने बताया कि राहुल गांधी ने पत्र लिखने वाले नेताओं के बीजेपी से मिले होने की बात कही। 

हालांकि, पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने तुरंत प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि राहुल गांधी ने ऐसा कोई बयान नहीं दिया। सुरजेवाला ने कल भी उन मीडिया रिपोर्ट्स को नकार दिया था, जिनमें बताया गया था कि पार्टी के 23 नेताओं द्वारा लिखे गए पत्र पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अपने पद से इस्तीफा देने का बात कही। लेकिन सुबह शुरू हुई कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में सोनिया गांधी ने उन रिपोर्ट्स पर मोहर लगाते हुए कहा कि पार्टी को नया अध्यक्ष खोजने की प्रक्रिया शुरू कर देनी चाहिए। 

दूसरी तरफ गांधी परिवार को तीन मुख्यमंत्रियों और दस प्रदेश अध्यक्षों का समर्थन मिल चुका है। वहीं कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल ने बैठक में कहा कि अगर सोनिया गांधी अपना इस्तीफा वापस नहीं लेना चाहती हैं तो राहुल गांधी को पार्टी का अध्यक्ष बनना चाहिए।